तमिलनाडु: चीनी मिल फिर से शुरू करने के लिए सांसद ने की मुख्यमंत्री से मांग

84

मदुरै: सांसद सु वेंकटेशन ने रविवार को अलंगनल्लूर में गन्ना किसानों द्वारा चल रहे विरोध प्रदर्शन में भाग लेते हुए, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन से राष्ट्रीय सहकारी चीनी मिल में 2021-2022 के लिए पेराई कार्यों को फिर से शुरू करने के लिए तुरंत कदम उठाने का आग्रह किया। यह एकमात्र ऐसी सहकारी चीनी मिल है, जो तमिलनाडु के दक्षिणी जिलों की पूर्ति करती है। पिछले 13 दिनों से गन्ना किसान मिल को रखरखाव कार्य के लिए 10 करोड़ रुपये आवंटित करने और पेराई संचालन फिर से शुरू करने की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन धरना दे रहे हैं। सांसद सु वेंकटेशन ने कहा कि, सीएम एमके स्टालिन ने पलाकोड और तिरुपत्तूर में सहकारी चीनी मिलों को क्रियाशील करने की अनुमति दी है, उन्हें अब राष्ट्रिय सहकारी चीनी मिल भी शुरू करने के लिए ठोस कदम उठाना चाहिए।

द टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित खबर के मुताबिक, वेंकटेशन ने कहा, हजारों श्रमिकों और गन्ना किसानों की आजीविका इस मिल पर निर्भर करती है। सु वेंकटेशन ने यह भी बताया कि अगर मिल में बिजली और एथेनॉल उत्पादन शुरू किया जाता है, तो मिल लाभदायक तरीके से काम कर सकती है। तमिलनाडु गन्ना किसान संघ के राज्य अध्यक्ष एन पलानीसामी ने कहा कि, इस साल मिल में पेराई के लिए 1,850 एकड़ गन्ना पंजीकृत किया गया है और 60,000 टन गन्ना मिल के क्षेत्र में है। किसान लगभग 17,000 टन गन्ना उपलब्ध कराने के लिए भी तैयार हैं जो पेराई के लिए पंजीकृत नहीं हैं, जिससे मिल शुरू करने में कोई कठिनाई नहीं होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here