तमिलनाडु: केंद्रीय टीम ने चक्रवात निवार से हुए नुकसान का जायजा लिया…

128

वेल्लोर / पुदुचेरी: विभिन्न विभागों के अधिकारियों सहित चार सदस्यीय केंद्रीय दल ने वेल्लोर जिले में चक्रवात निवार से प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया। पीडब्ल्यूडी सचिव के मनिवासन और वेल्लोर के कलेक्टर ए शनमुगा सुंदरम भी उनके साथ दौरे पर थे। शनमुगा सुंदरम ने कहा, हमने जिले फसल और अन्य नुकसान की केन्द्रीय टीम को जानकारी दी। हमने टीम को गुडियाथम और अन्य स्थानों पर किए गए एहतियाती उपायों बारे में भी बताया।

तमिलनाडु विधानसभा में विपक्ष के उप नेता और द्रमुक महासचिव दुरई मुरुगन भी टीम के साथ थे। रानीपेट में, टीम ने एकांबरनल्लूर, नंद्यालम, मेलाकुप्पम, सथूर, के वेलूर और सककारमल्लूर का दौरा किया। कलेक्टर एजी ग्लेडस्टोन पुष्पराज ने सदस्यों को चक्रवात के कहर के बारे में जानकारी दी। तिरुपत्तूर कलेक्टर एमपी शिवनारुल ने टीम को नुकसान के बारे में जानकारी दी। इस बीच, किसानों के एक वर्ग ने आरोप लगाया कि, राजस्व और कृषि विभाग फसल नुकसान की उचित गणना नहीं कर रहे हैं। वेल्लोर जिले में 900 हेक्टेयर से अधिक धान, गन्ना, केला, मूंगफली और पपीता खराब हो गया। रानीपेट में 2,293 हेक्टेयर में धान, मूंगफली, केला और अन्य फसलों को नुकसान हुआ। तिरुवन्नामलाई में, 2,210 हेक्टेयर में धान, 719 हेक्टेयर पर मूंगफली क्षतिग्रस्त हुई है।केंद्रीय टीम ने पुदुचेरी में भारी बारिश प्रभावित क्षेत्रों का निरीक्षण किया।

पुडुचेरी सरकार ने 400 करोड़ रुपये के नुकसान का आकलन किया है और 100 करोड़ रुपये की अंतरिम राहत मांगी है। सरकारी सर्वेक्षण के अनुसार, 820 हेक्टेयर पर धान, 200 हेक्टेयर पर सब्जियां, 170 हेक्टेयर पर गन्ना, 7 हेक्टेयर पर सुपारी और 55 हेक्टेयर में केले को नुकसान पहुंचा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here