केरल: मरयूर में श्रमिकों की कमी के कारण समय पर नहीं हुआ गन्ना कटाई

195

केरल, मरयूर: श्रमिकों की कमी के कारण समय पर कटाई नहीं होने के कारण मरयूर में गन्ने के खेत अब ऊंचे पौधों से भर गए हैं। किसानों ने कहा कि, श्रमिकों की कमी के कारण कटाई में देरी हो रही है। गन्ने की समय पर कटाई नहीं होने से रस का उत्पादन काफी कम हो जाएगा, जिसके परिणामस्वरूप गुड़ का उत्पादन कम होगा। उन्होंने कहा कि, गन्ना वृद्धि की अधिकतम अवधि 12 महीने है। कम उत्पादन के बावजूद गुड़ के दाम कम है।

द हिन्दू में प्रकाशित खबर के मुताबिक, मरयूर में घरेलू इकाइयों में गुड़ का उत्पादन किया जाता है। इसे भौगोलिक संकेत (जीआई) टैग प्राप्त हुआ, और मरयूर करीमपुलपाडका विपनाना संघम, Mapco (मरयूर कृषि निर्माता कंपनी) और Mhads (मरयूर हिल्स कृषि विकास सोसायटी) इन तीन एजेंसियों को गुड़ बेचने का अधिकार सौंपा गया। इसे ब्रांड नाम ‘मरयूर गुड़’ मिला है।

Mhads के प्रमुख सेल्विन मरप्पन ने कहा कि, सरकार ने ओणम किट में मरयूर गुड़ को शामिल नहीं किया है। सबरीमाला में अरवाना बनाने और आंगनबाड़ियों की आपूर्ति के लिए मरयूर गुड़ उपलब्ध कराने की उनकी लंबे समय से मांग थी। उनकी यह भी शिकायत है कि तमिलनाडु से निम्न गुणवत्ता वाले गुड़ को मरयूर गुड़ के रूप में पैक किया जा रहा है। पिछले ओणम सीजन के दौरान, मरयूर गुड़ ने 50 किलो बोरी के लिए ₹4,100 की उच्चतम कीमत प्राप्त की थी।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here