तेलंगाना : किसानों को मजबूरन गन्ना दूसरी मिलों में ले भेजना पड़ रहा है…

199

संगारेड्डी : वित्त मंत्री टी। हरीश राव, कलेक्टर एम। हनुमंथा राव और गन्ना विभाग के अधिकारियों के हस्तक्षेप के बावजूद ट्राइडेंट शुगर्स की तरफ से जहीराबाद क्षेत्र में गन्ना किसानों का बकाया भुगतान नही हुआ है। ट्राइडेंट शुगर्स के पास किसानों का लगभग 12.69 करोड़ बकाया है। वर्षों से लंबित बकाया के कारण छोटे और गरीब किसानों के लिए परिवार के खर्च को पूरा करने दिक्कते आ रही है। कोरोना महामारी के कारण किसानों को ऋण लेना भी मुश्किल हो गया है। इस सीजन में किसानों को मजबूरन गन्ना दूसरी मिलों में ले जाना पड़ रहा है, तो कई किसानों ने तो अपनी उपज एजेंटों को बेच दी है।

वित्त मंत्री हरीश राव ने इस मुद्दे को सुलझाने के लिए ट्राइडेंट शुगर्स के प्रबंधन के प्रतिनिधियों के साथ कई बैठकें कीं और उन्हें पाँच या छह बार बकाया राशि भुगतान का मौका दिया। कथित तौर पर प्रबंधन लिखित प्रतिबद्धता को निभाने में विफल रहा। इस बीच, चालू सीजन में किसानों ने लगभग 15,000 एकड़ में गन्ना उगाया है, और किसान इडेंट शुगर्स की बजाय अपनी उपज को अन्य मिलों को बेच रहें है। गन्ने को 10 से अधिक कारखानों में ले जाया जा रहा है, जिसमें राज्य में संगारेड्डी, कामारेड्डी और निजामनगर और कर्नाटक में बीदर और महाराष्ट्र में कुछ अन्य मिलें शामिल हैं। कई किसानों ने तो अपनी उपज एजेंटों को बेच दी है जो बाजार दर से थोड़ा कम भुगतान करेंगे। एजेंट प्रति टन 2,150 से 2,300 रूपयें के बीच भुगतान करते हैं,जबकि मिल में किसान को लगभग 2,400 रूपयें प्रति टन मिल सकता है। यहां किसान को फसल को मिल तक ले जाने के बोझ से राहत मिलती है। इसलिए, किसानों ने उपज को एजेंटों को बेचना पसंद किया है।इस बीच, यह त्रिशूल शुगर्स ने किसानों को बकाया भुगतान के रूप में 28.1 लाख जारी किए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here