थाईलैंड: गन्ना किसान सूखे और स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं से परेशान

147

बैंकाक: थाईलैंड के गन्ना किसानों को उपभोक्ताओं के बीच बढ़ती स्वास्थ्य जागरूकता और सूखे जैसी प्रमुख चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। थाई शुगर मिलर्स कॉरपोरेशन के अनुसार, 2020-21 फसल वर्ष (नवंबर 2020 से अक्टूबर 2021) के लिए घरेलू चीनी उत्पादन लगभग 6.6 मिलियन टन होगा, जो एक दशक में सबसे निचला स्तर है। देश में गन्ना पैदावार को प्रभावित करने वाला एक प्रमुख कारक सूखा है। बारिश के मौसम में भी, थाईलैंड में इस साल सामान्य से कम बारिश हुई है। आगामी फसल वर्ष में उत्पादन लगभग 2020-2021 सीजन के समान ही रहने की उम्मीद है। कई गन्ना किसान कसावा की ओर रुख कर रहे हैं, जो सूखे के प्रति अधिक प्रतिरोधी है।

थाई उपभोक्ताओं के बीच बढ़ती स्वास्थ्य जागरूकता से चीनी उत्पादन में गिरावट हो रही है। मोटापा और मधुमेह जैसी स्वास्थ्य समस्याओं से निपटने के उद्देश्य से, थाईलैंड ने 2018 में चीनी टैक्स लगाया है। जिसके चलते पेय में चीनी की मात्रा जितनी अधिक होगी, उतना ही अधिक कर पेय निर्माता भुगतान करेंगे। कासिकोर्न रिसर्च सेंटर के एक विश्लेषक ने कहा, उपभोक्ता स्वास्थ्य के बारे में बहुत चिंतित हैं, और पेय निर्माता उपभोक्ताओं की जरूरतों को देखकर उत्पादन बना रहे हैं।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here