केंद्र सरकार ने निर्यात को लेकर चीनी मिलों को दिया ‘अल्टीमेटम’

कीमतों में कमी और कमजोर निर्यात से गन्ना उद्योग आर्थिक चपेट में; बकाया भुगतान को लेकर मोदी सरकार को गन्ना किसानों के दबाव का सामना करना पड़ रहा है ।

नई दिल्ली : चीनी मंडी

भारत अपने चीनी निर्यात लक्ष्य को पूरा करने के लिए संघर्ष कर रहा है, बढ़ता हुआ घरेलू चीनी उत्पादन गन्ना किसानों के संकट में वृद्धि कर रहा है। 5 मिलियन टन के निर्यात लक्ष्य को पूरा करने के लिए सरकार ने चीनी मिलों को ‘अल्टीमेटम’ दिया है, और निर्यात लक्ष्य पूरा नही होता है तो मिलें और निर्यातकों के खिलाफ कार्रवाई की धमकी दी है । सभी प्रमुख गन्ना उत्पादक राज्यों में किसान बम्पर उत्पादन के कारण एक साल से कीमतों में गिरावट के चलते नाराज हैं, जिससे नरेंद्र मोदी सरकार चुनाव वर्ष में आगे बढ़ रही है।

घरेलू बाजार में 10 लाख टन चीनी का स्टॉक अधिशेष….

घरेलू बाजार में 10 लाख टन चीनी स्टॉक हैं, जबकि चालू वर्ष के 31.5 मिलियन टन अतिरिक्त उत्पादन की उम्मीद है। अधिशेष को कम करने के लिए 25.5 लाख टन की घरेलू खपत अपर्याप्त है।भारत पहले से ही चीनी उद्योग को दी गई सब्सिडी के चलते अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विरोध का सामना कर रहा है । दुनिया के अन्य चीनी निर्यात करने वाले देशों ने भारत सरकार द्वारा किसान और चीनी उद्योग को दी हुई सब्सिडी को वैश्विक मूल्य में गिरावट के कारण बताया है।

ऑस्ट्रेलिया और ब्राजील द्वारा चीनी सब्सिडी पर भारत के खिलाफ ‘WTO’ में शिकायत….

ऑस्ट्रेलिया और ब्राजील ने चीनी सब्सिडी पर भारत के खिलाफ विश्व व्यापार संगठन (wto) में शिकायत दर्ज की है। हालांकि, भारत का कहना है कि सब्सिडी किसानों को समर्थन देने के लिए घरेलू राहत उपाय थी और कीमतों को प्रभावित नहीं करती है। सरकार ने 2018-सितंबर 201 9 सीजन के लक्ष्य को हासिल करने के लिए चीनी निर्यात को तेज करने के लिए मिलों को चेतावनी दी है।

अक्टूबर-दिसंबर तिमाही के लिए केवल 179,000 टन निर्यात…

व्यापारी अक्टूबर-दिसंबर तिमाही के लिए केवल 179,000 टन निर्यात में कामयाब रहे है, जबकि लोडिंग ऑपरेशन की प्रतीक्षा में 80,000 टन चीनी विभिन्न बंदरगाहों पर हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि, तिमाही के लिए अधिकतम संभव निर्यात 260,000 टन होगा, निर्यातकों ने कुल 600,000 टन के अनुबंध किए है। धीमी गति से बढ़ोतरी से अधिकारियों के लिए चिंता हो रही है जब त्रैमासिक निर्यात 5 मिलियन टन के वार्षिक लक्ष्य को पूरा करने के लिए 1.25 लाख टन निर्यात होना चाहिए। सरकार ने चीनी मिलों को न्यूनतम सूचक निर्यात कोटा (एमआईईक्यू) को पूरा करने की सलाह दी है। अधिकारियों ने संकेत दिया है कि, एमआईईक्यू को पूरा करने में विफलता को दंडकारी कार्रवाई को आमंत्रित करने वाले सरकारी निर्देशों का उल्लंघन माना जाएगा।

डीएफपीडी द्वारा निर्यात लक्ष्य की पूर्ति की होगी निगरानी…

चीनी निदेशालय से एक परिपत्र पिछले हफ्ते कहा की, यदि एक चीनी मिल अपने त्रैमासिक चीनी निर्यात लक्ष्य को प्राप्त करने में विफल रहता है तो किसी भी निर्दिष्ट तिमाही के दौरान अप्रयुक्त चीनी की समतुल्य मात्रा को चीनी के मात्रा से तीन बराबर किश्तों में कटौती की जाएगी ताकि बाद की तिमाही प्रत्येक माह के लिए मासिक स्टॉक होल्डिंग आवंटित किया जा सके। केंद्र ने अधिकांश चीनी मिलों द्वारा सरकार की दिशा के अनुपालन के संबंध में गंभीर विचार किया है। इस उद्देश्य के लिए, चीनी मिलों को अपने त्रैमासिक निर्यात लक्ष्य निर्धारित करने और खाद्य और सार्वजनिक वितरण विभाग को अंतरंग करने की आवश्यकता है। (डीएफपीडी) चीनी मिलों द्वारा तिमाही निर्यात लक्ष्य की पूर्ति की निगरानी डीएफपीडी द्वारा की जाएगी ।

इस्मा’ द्वारा एमआईईक्यू को दंड प्रावधान अनिवार्य बनाने का सुझाव….

इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) ने एमआईईक्यू को दंड प्रावधान के साथ अनिवार्य बनाने का सुझाव दिया है। ‘इस्मा’ के डायरेक्टर जनरल एबिनाश वर्मा ने कहा, हमने बार-बार चीनी मिलों पर जुर्माना लगाए जाने की सिफारिश की है जो निर्यात की आवंटित मात्रा को पूरा करने में नाकाम रहे हैं। कुछ बाजार सूत्रों का आरोप है कि, मिलर्स सब्सिडी को वितरित करने में सरकार के हिस्से में देरी से डरते हुए निर्यात के लिए शेयर जारी करने में अनिच्छुक हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here