चीनी निर्यात लक्ष्य हासिल करना मुश्किल…

802

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

नई दिल्ली: चीनी मंडी

देश में लगातार दूसरे वर्ष में 325 लाख टन चीनी उत्पादन का अनुमान लगाया जा रहा है। चीनी की अतिरिक्त आपूर्ति के कारण, केंद्र सरकार ने चीनी मिलों को परिवहन सब्सिडी प्रदान करके 2018-19 सीज़न में 50 लाख टन चीनी निर्यात का लक्ष्य दिया है। हालांकि, अप्रैल के अंत तक, मिलर्स ने सिर्फ 23 लाख टन चीनी या लक्ष्य का 46 प्रतिशत निर्यात किया है। चीनी उद्योग के सूत्रों के अनुसार, तय निर्यात लक्ष्य हासिल करना काफी मुश्किल है।

अब तक केवल 46% निर्यात लक्ष्य हासिल….

वर्ष 2018-19 के दौरान देश में चीनी का रिकॉर्ड उत्पादन हुआ। नतीजतन, अतिरिक्त आपूर्ति का सीधा असर चीनी की कीमतों पर दिखाई दिया। इस मुश्किल स्थिति से उबरने और चीनी उद्योग को सहायता करने के लिए, केंद्र सरकार ने चीनी मिलों को सब्सिडी देकर 50 लाख टन चीनी निर्यात का लक्ष्य रखा था। हालांकि, सीजन के पहले सात महीनों में, मिलों ने अब तक केवल 46% निर्यात लक्ष्य हासिल किया है। अब अगले पांच महीनों में, निर्यात का निर्धारित लक्ष्य हासिल करना काफी मुश्किल लगता है।

अगले पांच महीनों में हर महीने दो लाख टन अनुबंध होने की संभावना…

वर्तमान चीनी निर्यात के लिए अनुबंध की गति कम हो गई है। जिन मिलों की वित्तीय स्थिति अच्छी है, वे पहले ही चीनी का निर्यात कर चुके हैं या निर्यात समझौते कर चुके हैं। प्रारंभ में, हर महीने कम से कम चार से साडेचार लाख टन के निर्यात समझौते किये गये है। चीनी उद्योग के सूत्रों ने कहा कि, अगले पांच महीनों में हर महीने दो लाख टन या इससे कम के अनुबंध होने की संभावना है।

केवल 30 से 35 लाख टन निर्यात संभव…

चीनी मिलों ने अब तक 28 लाख टन निर्यात के लिए अनुबंध किये है, जिसमें से 23 लाख टन निर्यात किया गया है। इसलिए, केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित 50 लाख टन चीनी निर्यात का लक्ष्य पूरा होने की संभावना कम है। सीजन में मिलों द्वारा 30 से 35 लाख टन निर्यात होने की उम्मीद है। सरकारी अधिकारियों ने कहा कि, कम कीमतों के कारण अंतरराष्ट्रीय बाजारों में निर्यातकों को परेशानी हो रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here