चीनी के व्यापार को बढ़ावा देने की जरुरत: डॉ एम एस स्वामीनाथन

238

चैन्नई/ दिल्ली, 27 अगस्त: प्रख्यात कृषि वैज्ञानिक एम एस स्वामीनाथन ने किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए उत्पादन के साथ साथ आय आधारित विकल्पों को अपनाने पर जोर दिया है। स्वामीनाथन ने कहा कि जलवाय परिवर्तन की चुनौतियों के बीच गन्ना और धान जैसी फ़सलों के हर हिस्से का मूल्यवर्द्धन कर उपयोगी बनाने की जरूरत है।

डॉ स्वामीनाथन ने कहा कि वर्तमान दौर में कृषि क्षेत्र में काफ़ी शोध हो रहे है ऐसे में गन्ने जैसी अधिक पानी वाली फ़सलों में बेहतर जल प्रबंधन कर कम पानी में अधिक उत्पादन लेने की तकनीकें अपनाकर किसान अपनी आमदनी बढ़ा सकते है। डॉ स्वामीनाथन ने कहा कि चीनी मिलों और गन्ना किसानों का उत्पादन लागत घटाने और आमदनी बढाने में सीधा संबंध है। चीनी मिलों को अपनी आमदनी बढाने के लिए गन्ने से गुड, खांडसारी और चीनी बनाने के अलावा गन्ने के अवशेष से कम्पोष्ट और बायोगैस जैसे बहुपयोगी उत्पाद तैयार कर लाभ कमाने की ज़रूरत है।

डॉ स्वामीनाथन ने कहा कि केन्द्र सरकार चीनी मिलों को आर्थिक रूप से मज़बूत बनाने के कई तरह की योजनाओं लागू कर रही है जिनके आने वाले दिनों में अच्छे परिणाम सामने आएँगे।

स्वामीनाथन ने कहा कि सरकार गन्ना किसानों के कल्याण के लिए गन्ने की बुआई से लेकर फ़सल तैयार होने और चीनी मिलों में पहुँचने तक का बीमा कर रही है ताकि जोखिम या नुक़सान की स्थिति में किसानों की मदद की जा सके।

चीनी मिलों के घाटे में चलने के सवाल पर बोलते हुए उन्होने कहा कि सरकार चीनी मिलों को वित्तीय मदद कर रही है। लेकिन चीनी मिलों को भी अपने ख़र्चो को व्यवस्थित करने के अलावा अन्य श्रोतों से राजस्व अर्जित कर अपनी आमदनी बढ़ाने की ज़रूरत है। सरकार ने गन्ने से ऐथनॉल बनाने को मंज़ूरी दी है जो चीनी मिलों के हित में सरकार की तरफ़ से लिया गया अच्छा फ़ैसला है। अब चीनी मिलों को इस पर आगे काम करने की ज़रूरत है ताकि गन्ने के एक एक अंश का सदुपयोग कर उसे आमदनी का श्रोत बनाया जा सके।

डॉ. स्वामीनाथन ने कहा कि 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का सरकार ने लक्ष्य रखा है, इसे पूरा करने में गन्ना किसान और चीनी मिलों की भूमिका अहम है।

स्वामीनाथन ने जैविक गन्ने की खेती को प्रोत्साहन देने की वकालत करते हुए चीनी के व्यापार और कारोबार को बढ़ावा देने की बात कही और उपभोक्ता व उत्पाद आधारित कृषि व्यापार की नीति को प्रोत्साहित करने पर जोर दिया।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here