इस वजह से शरद पवार ने गन्ना दर को लेकर स्वाभिमानी शेतकरी संघठन से सहयोग करने की अपील की

661

कोल्हापुर: चीनी मंडी

चीनी मिल के असली मालिक किसान हैं, मिले किसी भी हालत में  टिके रहने  चाहिए यह किसानों की भूमिका है। मिलों द्वारा  चीनी उत्पादित होने के बाद  बाजार से मांग होने पर बेची जाती है, लेकिन आज मिलों के पास बड़ी मात्रा में चीनी बची है। चीनी की बिक्री के बिना गन्ना  उत्पादकों को एकमुश्त एफआरपी देना संभव नहीं है। चीनी मिलों को एकमुश्त एफआरपी चुकाने के लिए कर्ज लेना पडेगा ।

पवार ने कहा की, इस ऋण का ब्याज और बोझ अंततः किसानों को प्रभावित करेगा। इसलिए मैं स्वाभिमानी शेतकरी संघठन के नेता और सांसद राजू शेट्टी इस बारे में बोलेंगे। अगर उनके पास कोई रास्ता है, तो मेरा पूरा सहयोग उनके लिए होगा  वर्तमान में, गन्ने के लिए आत्म-सम्मान का आंदोलन चल रहा है। जब पत्रकारों ने इस आंदोलन पर सवाल उठाए, तो पवार ने इस मुद्दे को उठाया।  पवार ने कहा कि,  यह नियम है कि गन्ना क्रशिंग के बाद 14 दिनों के भीतर किसानों एफआरपी का भुगतान किया जाना चाहिए, लेकिन चीनी बिल्कुल भी नहीं बिकती है। जैसे ही चीनी तैयार होती है, उसे मांग नही होने से गोदामों में भेज दिया जाता है और उसके बाद जैसे जैसे मांग होती है, उसके बाद  बेचा जाता है।  हम चीनी मुद्दों को सुलझाने पर भी लगातार जोर दे रहे  हैं। इससे पहले, प्रधान मंत्री और मुख्यमंत्री ने भी इस संबंध में एक भूमिका निभाई है।

 

डाउनलोड करे चिनीमण्डी न्यूज ऐप: http://bit.ly/ChiniMandiApp

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here