“चीनी अधिशेष से निपटने के लिए सरकार द्वारा इथेनॉल निर्माण को बढ़ावा”

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

आईसीआरए के अनुसार, ब्याज सबवेंशन ऋण चीनी उद्योग के लिए बड़ा राहत भरा कदम 

नई दिल्ली – चीनी मंडी

आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (CCEA) ने डिस्टलरी कैपेसिटी को बढ़ाने के लिए चीनी मिलों को बैंकों द्वारा लगभग 12,900 करोड़ रुपये की ऋण राशि देने का फैसला किया। इसके कारण मध्यम अवधि में आपूर्ति-मांग के असंतुलन को दूर करने की संभावना है और इस प्रकार मध्यम अवधि में चीनी मिलों की नकदी स्थिती और तरलता में सुधार होगा, जबकि इथेनॉल सम्मिश्रण (ईबीपी) कार्यक्रम के तहत 10% सम्मिश्रण लक्ष्य को पूरा करने में भी मदद मिलेगी। आईसीआरए के अनुसार, चीनी उद्योग के लिए ब्याज सबवेंशन ऋण चीनी उद्योग के लिए एक सकारात्मक स्थिति है।

आईसीआरए रेटिंग्स के वरिष्ठ उपाध्यक्ष और समूह प्रमुख, सब्यसाची मजुमदार ने कहा, इथेनॉल के लिए मूल्य समर्थन के रूप में उद्योग के लिए सरकार द्वारा समर्थन जारी रखने से बी मोलासिसऔर गन्ने के रस से उच्च इथेनॉल निर्माण निर्भर है। ऐसा इसलिए है क्योंकि, ये बिक्री घरेलू बाजार में चीनी की बिक्री की तुलना में स्वाभाविक रूप से कम पारिश्रमिक है। इस परिदृश्य में, उद्योग में आपूर्ति-माँग के असंतुलन को सही करके चीनी मिलों की लाभप्रदता, तरलता और पूंजीगत संरचना को बनाए रखने के दृष्टिकोण से इथेनॉल के निर्माण के लिए गन्ने का विभाजन महत्वपूर्ण है।

आईसीआरए ने सकारात्मक रूप से नोट किया है कि, कई बड़ी चीनी मिलों ने पहले से ही अपने इथेनॉल विनिर्माण क्षमता को बढ़ाने के लिए योजनाओं की घोषणा की है। इसके अलावा, आईसीआरए का अनुमान है कि, चालू सीजन में ही चीनी उत्पादन में लगभग 0.5 मिलियन मीट्रिक टन की कमी होने की संभावना है, जो चीनी उत्पादन के लिए गन्ने के रस और बी-भारी गुड़ के मोड़ से प्राप्त होगी।

नवीनतम अनुमानों के अनुसार, 2018-19 के लिए घरेलू चीनी उत्पादन 31.7 मिलियन मीट्रिक टन के पिछले अनुमानों के मुकाबले 30.7 मिलियन मीट्रिक टन होने की संभावना है। यह इथेनॉल में चीनी से ’बी ‘के भारी गुड़ और गन्ने के रस के विचलन पर विचार करने के बाद है। इस के बावजूद और 2019 में घरेलू चीनी खपत में वृद्धि का अनुमान 2-3% से 25.8 मिलियन मीट्रिक टन के आसपास, उत्पादन अभी भी अनुमानित खपत की तुलना में कम से कम 4.5 मिलियन मीट्रिक टन अधिक होगा। पिछले सीजन से करीब 10.8 लाख मेट्रिक टन के शुरुआती स्टॉक को देखते हुए क्लोजिंग स्टॉक 12 लाख मीट्रिक टन के उच्च रहने की संभावना है। मौजूदा अतिरिक्त आपूर्ति की स्थिति को देखते हुए घरेलू चीनी की कीमतों पर भी दबाव बना हुआ है।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here