इसलिये 100 चीनी मिलों की बढ़ सकती है मुश्किलें

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

मुंबई: चीनी मंडी

निजी प्लेसमेंट नियमों के उल्लंघन के लिए महाराष्ट्र में दो चीनी मिलों पर हाल ही में सेबी के कार्रवाई ने राज्य में लगभग 100 अन्य मिलों पर भी कार्रवाई होने की सम्भावना तेज हुई है, क्योंकि वह मिलें भी एक ही मॉडल के तहत काम करती हैं। इसके चलते मिल मालिकों ने दावा किया कि, अगर सेबी द्वारा मिलों पर कार्रवाई की जाती है तो गन्ना खरीद में देरी हो सकती है, किसानों को भुगतान में देरी हो सकती है और कृषि संकट बढ़ सकता है।

4 जनवरी को, भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने लोकमंगल एग्रो इंडस्ट्रीज लिमिटेड की संपत्ति को संलग्न किया; ठीक एक हफ्ते बाद, सेबी ने बाबनरावजी शिंदे और एलाइड इंडस्ट्रीज लिमिटेड को निर्देश दिया कि, वह उन व्यक्तियों को पैसे वापस करे, जिनको उसने शेयर बेचे थे। चीनी मिलें लंबे समय से महाराष्ट्र में राजनीतिक लड़ाई का मैदान रही हैं, राज्य की सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) को चीनी उद्योग से अलग करने की कोशिश की। सेबी की कार्रवाइयाँ इस राजनीतिक संघर्ष को और तेज करने की संभावना है।

दोनों मिलों पर निजी प्लेसमेंट पर नियमों का उल्लंघन करने का आरोप है, जिसके तहत एक असूचीबद्ध कंपनी अधिकतम 49 लोगों को निजी तौर पर शेयर बेच सकती है। मिलों पर कंपनी अधिनियम, 1956 और सेबी अधिनियम का उल्लंघन करते हुए इस सीमा को पार करने का आरोप है। 50 या अधिक लोगों को शेयर जारी करना “डीम्ड पब्लिक इश्यू” माना जाता है, इसे नियामक के दायरे में लाया जाता है।

गन्ना किसानों को सहकारी समितियों में संगठित किया जाता है, या निजी सीमित कंपनियों का हिस्सा होता है जो गन्ना मिलों के मालिक हैं। सहकारी समितियों में, स्वामित्व गन्ना किसानों के साथ रहता है और निजी चीनी मिलों में, किसानों को शेयर जारी किए जाते हैं, उन्हें स्वामित्व दिया जाता है। ये मिलों द्वारा अपनाए गए मॉडल के आधार पर इक्विटी शेयर या वरीयता (प्रेफरेंस) शेयर हो सकते हैं। किसानों की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए अधिकांश सहकारी संरचनाएं अब निजी चीनी मिलों में बदल गई हैं। महाराष्ट्र में, कम से कम 100 चीनी मिलें निजी सीमित कंपनियों के रूप में काम करती हैं, जिनमें कोल्हापुर के श्री गुरुदत्त शुगर्स लिमिटेड, इको कैन शुगर, केन एग्रो एनर्जी (इंडिया) लिमिटेड, और सदगुरू श्री श्री साक्षी करखाना लिमिटेड प्रमुख नाम शामिल हैं।

बबनराव शिंदे शुगर्स के निर्देशक रनजीतसिंह बबनराव शिंदे ने दावा किया की, पिछले तीन वर्षों में, हमने लगभग 150 प्रस्ताव दिए हैं और उनमें से कोई भी 49 से अधिक लोगों के लिए नहीं है। अगर सेबी अंतरिम आदेश (फ्रीजिंग एसेट्स) में उल्लिखित निर्देशों के साथ आगे बढ़ता है, तो यह कंपनी और उसके हितधारकों जैसे कि बैंकों को बुरी तरह से प्रभावित करेगा।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here