कोरोना वायरस से जंग: हैंड सैनिटाइज़र बनाने के लिए कई डिस्टिलरीज इच्छुक…

211

लखनऊ : चीनी मंडी

यूपी सरकार ने सैनिटाइज़र के उत्पादन को बढ़ाने के लिए एक बहुस्तरीय रणनीति शुरू की है। कोरोनो वायरस के प्रकोप के बीच दुकानों में हैंड सैनिटाइजर उपलब्ध नहीं हैं और दिनोंदिन हैंड सैनिटाइज़र की मांग बढ़ती जा रही है। इसलिए उत्तर प्रदेश चीनी और आबकारी विभाग अपने मानदंडों को कम करने के संकेत दिए है, ताकि अधिक से अधिक कंपनियां हैंड सैनिटाइज़र का उत्पादन कर सके। जबकि राज्य के डिस्टिलरीज को हैंड सैनिटाइज़र बनाने के लिए कहा गया है। कॉस्मेटिक कंपनियां, जिनके पास पहले से ड्रग्स विभाग का लाइसेंस है, उन कंपनियों को एक्साइज डिपार्टमेंट से मंजूरी मिलने के बाद सैनिटाइज़र बनाने की अनुमति दी गई है। 20 से अधिक कंपनियों, जिनमें ज्यादातर डिस्टिलरीज, उन्होंने हैंड सैनिटाइज़र बनाने के लिए लाइसेंस की अनुमति के लिए आवेदन किया है।

यूपी चीनी और आबकारी विभाग से प्राप्त विवरण के अनुसार, ये 21 कंपनियां प्रतिदिन लगभग 50,000 लीटर हैंड सैनिटाइज़र का निर्माण करेंगी। कई कंपनी ने उत्पादन करना शुरू भी कर दिया है।

आबकारी और चीनी विभाग के प्रमुख सचिव, संजय भूसरेड्डी ने एक निजी न्यूज़ पोर्टल से बातचीत में कहा, जब रिपोर्टें आने लगीं की हैंड सैनिटाइज़र का स्टॉक समाप्त हो रहा है और अस्पतालों और आम जनता द्वारा हैंड सैनिटाइज़र की तीव्र कमी बताई जा रही थी। MRP के 4 से 5 गुना तक बढ़ने पर, यूपी सरकार ने सैनिटाइज़र बनाने के लिए गंभीरता से सोचविचार शुरू कर दिया था। यूपी सरकार ने सैनिटाइज़र बनाने के लिए डिस्टिलरीज को साथ में लेने का सोचा।

उन्होंने कहा इसके अलावा, हैंड सैनिटाइजर निर्माण कंपनियों को कच्चे माल की कमी की शिकायत थी। पर्याप्त मात्रा में अल्कोहल स्टॉक वाले चीनी मिलों और डिस्टिलरों को सैनिटाइज़र निर्माताओं को कच्ची सामग्री प्रदान करने के लिए निर्देशित किया गया है, या उन्हें विकल्प दिया गया की वे खुदरा बाजार में बेचने के लिए अपने ब्रांड स्थापित कर सकते हैं।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here