चीनी मिलें पेराई समाप्त होने के बाद भी जारी रखेंगी सैनिटाइजर का उत्पादन

220

लखनऊ : चीनी मंडी

उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप के चलते हैंड सैनिटाइजर की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए एक महीने में सैनिटाइजर उत्पादन क्षमता में प्रति दिन 40,000 लीटर से लगभग 2 लाख लीटर तक वृद्धि हुई है। राज्य में कई चीनी मिलों ने सैनिटाइजर बनाने के लिए संयंत्र स्थापित किए हैं। उत्तर प्रदेश के प्रमुख सचिव (गन्ना) संजय भूसरेड्डी ने कहा कि, राज्य में 82 इकाइयाँ हैंड सैनिटाइज़र के व्यावसायिक उत्पादन में लगी हुई है और इनमें से 36 यूनिट सैनिटाइज़र प्लांट, 27 चीनी मिलें, 11 डिस्टिलरी और आठ अन्य यूनिट शामिल है। उन्होंने कहा, इससे पहले यूपी में सैनिटाइज़र उत्पादन करनेवाली केवल 5-6 स्थायी इकाइयां थीं और पिछले कुछ हफ्तों में यह संख्या बढ़कर 36 हो गई है। गन्ना विभाग पुलिस, चिकित्सा और स्वास्थ्य कर्मचारियों और स्थानीय निकायों को मुफ्त में सैनिटाइजर की आपूर्ति कर रहा है।

अभी राज्य में 2019-20 गन्ना पेराई सत्र का समय चल रहा है, जबकि सैनिटाइजर उत्पादन में व्यस्त मिलें पेराई समाप्त होने के बाद भी उत्पादन जारी रखने की संभावना है। इसके लिए, उन्हें इथेनॉल / अल्कोहल की आवश्यकता होगी, जो उनके पास पहले से ही प्रचुर मात्रा में है। यूपी में अब तक 119 में से 32 चीनी मिलों का पेराई सीजन खत्म हुआ हैं।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here