उत्तर प्रदेश में चीनी के साथ साथ गुड़ उत्पादन में भी नया रिकॉर्ड

561

मुजफ्फरनगर: उत्तर प्रदेश ने इस साल चीनी उत्पादन के लिए एक नया कीर्तिमान स्थापित किया है, वहीं गुड़ उत्पादन भी राज्य में अपेक्षा से अधिक रहा है। व्यापार संगठनों के अनुमान के अनुसार, इस वर्ष पूरे उत्तर प्रदेश में गुड़ का उत्पादन लगभग 50 लाख टन रहा है। औसत वार्षिक 4.5 मिलियन टन उत्पादन से लगभग 11 प्रतिशत अधिक है। गुड़ का उत्पादन कुटीर और लघु उद्योग के अंतर्गत आता है, और इस वर्ष, कोरोन वायरस के कारण लागु लॉकडाउन अवधि में भी कोल्हू का उत्पादन चालू था और गन्ने की अच्छी फसल के कारण, विशेष रूप से पश्चिमी उत्तर प्रदेश में, उत्पादन में काफी वृद्धि हुई है। फेडरेशन ऑफ गुर (गुड़) ट्रेडर्स के अध्यक्ष, अरुण खंडेलवाल ने कहा कि, लॉकडाउन के समय भी गुड़ का उत्पादन चल रहा था और गन्ने की आपूर्ति भी स्थिर थी। उन्होंने कहा कि, वर्तमान में मुजफ्फरपुर क्षेत्र में कुछ इकाइयों में उत्पादन चल रहा है और लगभग 400-500 बैग (एक बैग में 40 किलोग्राम) प्रतिदिन आ रहा है। उन्होंने कहा कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में इस वर्ष लगभग 30 लाख टन गुड़ का उत्पादन होने की उम्मीद है। लॉकडाउन अवधि के दौरान उत्पादन में वृद्धि के साथ-साथ गुड़ का व्यवसाय भी लाभदायक रहा है।

चीनी उद्योग संगठनों के अनुसार, चीनी मिलों में गन्ने की आवक बढ़ने के कारण इस साल उत्तर प्रदेश में चीनी उत्पादन रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया। खंडेलवाल कहते हैं कि, इस साल राज्य में गन्ने की बंपर पैदावार हुई थी और रिकवरी भी अच्छी रही है, इसलिए न केवल चीनी बल्कि गुड़ का उत्पादन भी कई सालों से अधिक है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here