कोरोना वायरस: कच्चे माल के कमी के कारण उत्तर प्रदेश की चीनी मिलें संकट में

383

बिजनौर: उत्तर प्रदेश में बिजनौर के चीनी मिलों में इन दिनों चूने (लाइम) की किल्लत हो गई है। यहां की चीनी मिलें राजस्थान के भीलवाड़ा से चूना मंगाती हैं। यह एक अहम कच्चा माल है चीनी उत्पादन में।

इस समय राजस्थान में कोरोनोवायरस से भीलवाड़ा सबसे प्रभावित जिला है। यहां काम कर रहे बाहर के मजदूरों ने कोरोना वायरस के कारण जिले को छोड़ दिया है और अपने गांव चले गये हैं। इसके परिणामस्वरुप राज्य की खदानें बंद हो गई हैं और यूपी की चीनी मिलों को चूना नहीं मिल रहा।

बिजनौर के डीएम रमाकांत पांडे ने राजस्थान के अपने सहयोगियों को चूने की आपूर्ति जल्द से जल्द रेगुलेट करवाने के लिए कहा है। उन्होंने संकेत दिया कि यदि ऐसा नहीं हुआ तो बिजनौर की छह चीनी मिलों को चूने की किल्लत के कारण अपना परिचालन बंद करना पड़ सकता है। उन्होंने कहा कि बिजनौर के गन्ना किसानों के खेतों में 250 लाख टन के गन्ने खड़े हैं। सब बेकार हो जाएंगे। पांडे ने अपने एक पत्र में कहा है कि तालाबंदी के दौरान सरकार ने चूने का परिवहन करने वाले वाहनों की आवाजाही की अनुमति दी है।

बिजनौर के जिला गन्ना अधिकारी यशपाल सिंह ने कहा कि बिजनौर में नौ चीनी मिलें हैं। इनमें से छह मिलों के पास चूने का भंडार बहुत कम हो गया है। इन मिलों को तालाबंदी के कारण राजस्थान से चूना लाने में अनेक दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

सिंह ने कहा कि हम इस मसले को सुलझाने की कोशिश कर रहे हैं और उम्मीद है कि जल्द ही बिजनौर की चीनी मिलों को चूना मिल जाएगा।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here