यूएस-चीन व्यापार युद्ध दे सकता है इथेनॉल उत्पादन को बढ़ावा 

साओ पाउलो :  ब्राजील के इथेनॉल बाजार के लिए एक अनुकूल परिदृश्य के बीच, बंज शुगर, बायोनेर्जी और अनाज बाजार  प्रबंधक लुसियाना टोरेसन ने चेतावनी दी है कि, अमरिका में मकई से जैव ईंधन के उत्पादन में अंतिम वृद्धि एकमात्र कारक है,  जो ब्राजील में इथेनॉल कीमतों पर दबाव डाल सकता है। 18 वीं अंतरराष्ट्रीय डाटाग्रो सम्मेलन में कार्यकारी ने कहा, यदि चीन और अमरिका के बीच व्यापार युद्ध जारी रहता है, तो अमरिकी किसान इथेनॉल का उत्पादन करने के लिए सोया के बजाय मकई पर अधिक जोर देंगे और ब्राजील की इथेनॉल की कीमतों के लिए यह बाधा हो सकती है।
चीनी के बारे में, लुसियाना बताती है कि, प्रतिकूल मौसम की स्थिति इसके कुछ प्रमुख उत्पादक देशों में चीनी मिलों एवम् उद्योग  को प्रभावित करती है।  वे कहते हैं, इसका एक उदाहरण शुष्क जलवायु है,  जो भारत और थाईलैंड में चीनी उद्योग के बेहतर प्रदर्शन को कम करता है। यह स्थिति 201 9-2020 की वैश्विक फसल में घाटे का कारण बन सकती है। विशेष रूप से अगले वर्ष 2018-19 की फसल के लिए दुनिया में, चीनी की अंतरराष्ट्रीय कीमत  प्रति पौंड 13 और 15 सेंट के बीच रहने की अपेक्षा है। वैश्विक चीनी खपत के संबंध में, बंज के कार्यकारी अगले पांच वर्षों में 12 मिलियन टन की वार्षिक वृद्धि का अनुमान लगाते हैं। उनके लिए, ब्राजील के पास वैश्विक मांग में इस वृद्धि को पूरा करने की क्षमता है,  लेकिन इसके लिए, गन्ना क्षेत्र का विस्तार करना आवश्यक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here