राज्य में अन्य बंद पड़ी चीनी मिलों को भी पुनर्जीवित करेगी उत्तर प्रदेश सरकार: योगी आदित्यनाथ

258

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, राज्य सरकार ने गन्ना मूल्य का जो भुगतान किया है, वह कई राज्यों के वार्षिक बजट से अधिक है। योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को मुंडेरवा और पिपराईच चीनी मिलों में क्रमशः बस्ती और गोरखपुर जिलों में सल्फर-मुक्त चीनी मिलों का उद्घाटन किया।खराब मौसम की स्थिति के कारण उनका हेलीकॉप्टर मुंडेरवा में नहीं उतर सका, इसलिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिपराईच चीनी मिल परिसर से मुंडेरवा चीनी मिल के नए सल्फर-मुक्त संयंत्र का ऑनलाइन उद्घाटन किया। दोनों मिलें यूपी स्टेट शुगर मिल्स कॉर्पोरेशन की हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि, पिछले गन्ना पेराई सत्र (2019-20) के दौरान राज्य की 119 चीनी मिलों ने संचालन किया, और चीनी मिलों ने अब तक गन्ना किसानों को 1.12 लाख करोड़ रुपये का भुगतान किया है। मुख्यमंत्री ने दावा किया कि, कई राज्यों में इस आकार का वार्षिक बजट भी नहीं था। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, सल्फर मुक्त चीनी का अस्पतालों और अन्य संस्थानों में बहुत बड़ा बाजार है, यह चीनी उत्पादन पूर्वी उत्तर प्रदेश के गन्ना किसानों को एक नई पहचान देगा।उन्होंने कहा कि, पिछली सरकारों ने एक साजिश के तहत निजी क्षेत्र को 21 चीनी मिलें बेचकर चीनी उद्योग को लूटा था। हमारी पार्टी की सरकार ने 2017 में राज्य की कमान संभालने के बाद, चीनी मिलों को पुनर्जीवित किया, जिसमें पिपराइच और मुंडेरवा की चीनी मिलें भी शामिल है।

योगी ने कहा कि उनकी सरकार राज्य में अन्य बंद चीनी मिलों को भी पुनर्जीवित करेगी। उन्होंने कहा कि इस संबंध में निर्देश जारी कर दिए गए हैं और जैसे ही कोरोनोवायरस का प्रकोप खत्म होगा, काम में तेजी लाई जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here