भारत में 5 वें सबसे बड़े निर्यात क्षेत्र के रूप में उभरा उत्तर प्रदेश; चीनी निर्यात में भी मांग बढ़ी

398

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दूरदर्शी नेतृत्व के साथ COVID-19 महामारी संकट को एक अच्छे समय में बदलने के लिए हर संभव काम किया है। सीएम योगी के मार्गदर्शन में, राज्य के कई निर्यातकों ने राज्य की अर्थव्यवस्था को संतुलित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी और उनके प्रयासों से, उत्तर प्रदेश निर्यात के मामले में देश में पांचवें स्थान को बनाए रखने में सफल रहा। जिसमें चीनी भी एक अहम उत्पाद है, जिसकी निर्यात पिछले कुछ सालों में बढ़ गई है। राज्य से चीनी क साथ साथ चावल, दवाइयां, कालीन, रेशम, उर्वरक, खिलौने उत्पाद इत्यादि जैसे सामानों को विदेशों से काफी ऑर्डर मिले हैं। तेजी से कदम उठाते हुए, राज्य सरकार ने निर्यातकों को भारी रियायत देने के लिए अपने ‘कारोबार करने में आसानी’ के तहत प्रयास किए, ताकि सभी उत्पादों को आसानी से विदेश भेजा जा सके।

केंद्र सरकार द्वारा जारी नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, उत्तर प्रदेश ने महामारी के दौरान निर्यात के मामले में तेलंगाना, केरल, पंजाब, पश्चिम बंगाल आदि सहित कई राज्यों को पीछे छोड़ दिया। निर्यात अग्रणी के रूप में उभरकर, यूपी एक नई निर्यात नीति लेकर आया है, जिसके तहत सरकार निर्यातकों की संख्या बढ़ाने के लिए भी काम कर रही है। उल्लेखनीय है कि राज्य में 10 हजार से अधिक निर्यातक हैं।

महामारी के दौरान, अप्रैल 2020 और नवंबर 2020 के बीच, 72,508 करोड़ रुपये के माल (दूध, आटा, चीनी, कृत्रिम फूल, चावल, रेशम, आदि) को यूपी से निर्यात किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here