विजिलेंस और एनफोर्समेंट अधिकारियों की चीनी मिल पर छापेमारी…

872

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

वानापार्थी: चीनी मंडी

तेलंगाना में बुधवार को एनएसएल कृष्णावेनी चीनी मिल और एबीडी शराब फैक्ट्री पर विजिलेंस और एनफोर्समेंट अधिकारियों द्वारा की गई छापेमारी में, 142 क्विंटल पीडीएस चावल, 80 बैग यूरिया, 44 बैग डीएपी जब्त किया है। जो मिल के परिसर में अवैध रूप से स्टॉक किए गए थे।

असिस्टेंट स्टेशन ऑफिसर (एएसओ) के मुताबिक, हैदराबाद से विजिलेंस और एनफोर्समेंट टीम का नेतृत्व करने वाले राजेंद्र ने कहा कि, शराब बनाने के काम में शामिल ये मिल कथित तौर पर मिलावटी शराब बनाने के लिए यूरिया को एक घटक के रूप में मिला रही थीं। हमारे छापे के दौरान, हमने पाया कि चीनी के निर्माण के अलावा एनएसएल कृष्णावेनी चीनी मिल भी गन्ने के गुड़ से शराब के निर्माण में शामिल थी। हालांकि, जब हमने इसके परिसर में स्टॉक की गई वस्तुओं की जाँच की, तो हमें मिल में अवैध रूप से संग्रहीत यूरिया का बड़ा स्टॉक मिलने पर आश्चर्य हुआ। उन्होंने कहा की, हमने मिल से यूरिया के 66 बैग जब्त किए हैं।

एक अन्य मामले में, विजिलेंस के अधिकारियों ने, जिन्होंने पीबेयर मंडल में एबीडी शराब फैक्ट्री पर भी छापा मारा, उनके परिसर में अवैध रूप से 240 बैग में 142 क्विंटल पीडीएस चावल का स्टॉक पाया गया। एक टिप ऑफ के आधार पर, एबीडी शराब फैक्ट्री पर छापा मारा और अवैध रूप से स्टॉक किए गए 142 क्विंटल पीडीएस चावल और 44 बैग डीएपी और यूरिया के 14 बैग जब्त किए। एएसओ राजेंद्र ने कहा, उनके कब्जे से सामग्री जब्त कर ली है और आगे की पूछताछ शुरू कर दी है। हालांकि, दूसरी ओर, दोनों मिलों के अधिकारियों ने कहा कि, उन्होंने यूरिया को 100 एकड़ में गन्ने की खेती में इस्तेमाल करने के लिए स्टॉक किया है न कि शराब बनाने के लिए।

कोटककोटा मंडल के कृषि अधिकारी शेख मुन्ना ने कहा की, जिन मिलों को चीनी और शराब बनाने की अनुमति दी गई है, वे यूरिया, डीएपी और अवैध रूप से खरीदे गए पीडीएस चावल जैसे असंबंधित वस्तुओं का स्टॉक नहीं कर सकते हैं। हम मामले का विस्तार से अध्ययन करेंगे और सबूतों के आधार पर औद्योगिक नियम और कानून के तहत हम इन मिलों के खिलाफ मामला दर्ज करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here