हमें चावल, मक्का और चीनी को बर्बाद होने से बचाने के लिए अधिशेष का उपयोग करना होगा: नितिन गडकरी

153

नागपुर: सड़क, परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने रविवार को नागपुर में देश के पहले एलएनजी प्लांट का उद्घाटन किया। प्लांट का उद्घाटन करने के बाद गडकरी ने कहा, हम पेट्रोल, डीजल और पेट्रोलियम उत्पादों के आयात पर 8 लाख करोड़ रुपये खर्च कर रहे हैं, जो एक बड़ी चुनौती है। उन्होंने ऊर्जा और बिजली क्षेत्र की ओर कृषि के विविधीकरण के लिए वैकल्पिक जैव ईंधन के महत्व पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि, केंद्र सरकार ने जो इथेनॉल नीति तैयार की है, उससे पेट्रोलियम उत्पादों पर आयात पर निर्भरता कम करने के साथ साथ प्रदूषण मुक्त और स्वदेशी इथेनॉल, जैव सीएनजी, एलएनजी और हाइड्रोजन ईंधन के विकास को प्रोत्साहित करती है।

उन्होंने आगे कहा कि, मंत्रालय विभिन्न वैकल्पिक ईंधनों पर लगातार काम कर रहा है। हमें चावल, मक्का और चीनी को बर्बाद होने से बचाने के लिए अधिशेष का उपयोग करना होगा। फ्लेक्स इंजन के बारे में बात करते हुए मंत्री ने कहा कि तीन महीने में निर्णय लिया जाएगा, जिससे ऑटोमोबाइल निर्माताओं विशेष रूप से चार पहिया और दो पहिया वाहनों के लिए फ्लेक्स इंजन बनाना अनिवार्य हो जाएगा। गडकरी ने कहा कि यूएसए, कनाडा और ब्राजील जैसे कई देशों ने उन्हें पहले ही शुरू कर दिया है। उन्होंने यह भी कहा की, वाहन की कीमत वही रहती है चाहे वह पेट्रोल हो या फ्लेक्स इंजन।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here