पांडवापुरा चीनी मिल के कर्मचारियों को मिलेगा लंबित वेतन भुगतान

244

मैसूरु: भाजपा विधायक मुरुगेश निरानी ने शनिवार को कहा कि, अगर राज्य सरकार मंड्या जिले कि मायशुगर मिल को लीज पर देने का फैसला करती है, तो वह बोली लगाने के लिए उत्सुक है। मीडियाकर्मीयों के साथ बातचीत में, निरानी ने कहा कि, राज्य सरकार ने दो साल से बंद मिल के लिए एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया है और चीनी मिल के भविष्य के बारे में चर्चा चल रही है। उन्होंने कहा, मैंने मायशुगर मिल का दौरा किया, जिसमें बताया गया कि, सरकार इसे 40 साल के लिए लीज पर दे रही है। लेकिन जब मुझे पता चला कि सरकार का ऐसा कोई प्रस्ताव ही नहीं है, तो मैंने PSSK के लिए निविदा में भाग लिया और 40 साल की लीज़ की बोली जीती।

निरानी ने कहा कि, सरकार द्वारा नियुक्‍त विशेषज्ञ समिति यह तय करेगी कि मिल को सरकार द्वारा चलाया जाए या निजी क्षेत्र की कंपनियों को लीज पर दिया जाए या संचालन और प्रबंधन निजी एजेंसियों को सौंप दिया जाए। अगर सरकार मायशुगर मिल को लीज पर देने का निर्णय लेती है, तो मैं इस परियोजना पर निवेश के आधार पर बोली में भाग ले सकता हूं। उन्होंने कहा कि, उन्होंने भाजपा सरकार पर कभी भी मायशुगर मिल को लीज पर देने के लिए दबाव नहीं डाला है। निरानी ने कहा कि, पांडवपुरा तालुक में पांडवापुरा सहकारी सकारे करखने ( PSSK) कि गन्ना पेराई 1 अगस्त से शुरू होगी, यह पांडवापुरा चीनी मिल से भी प्रसिद्ध है। उन्होंने आश्‍वस्त किया कि, सरकार, PSSK और निरानी समूह के बीच त्रिपक्षीय समझौते के 24 घंटे के भीतर, हम कर्मचारियों के तीन साल के लंबित वेतन का भुगतान कर देंगे। हम स्थानीय कुशल मजदूरों को काम पर रखेंगे।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here