वन्यजीव विभाग द्वारा चीनी मिल के विस्तार का विरोध…

184

पटियाला: पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (PPCB) द्वारा जारी किए गए एक सार्वजनिक नोटिस से वन्यजीव विभाग नाराज है, नोटिस में चड्ढा चीनी मिल द्वारा “मोलासिस भंडारण क्षमता के विस्तार” पर लोगों को आपत्तियां दर्ज करने की अपील की गई है। मई, 2018 में Beas नदी में बड़ी संख्या में मछलियां मृत पाई गईं, जिसके बाद गुरदासपुर के चड्ढा मिल को सील कर दिया गया और 5 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया था। वन्यजीव विभाग के अधिकारियों ने कहा कि, वे अभी भी नदी में कायाकल्प कार्य को पूरा करने के लिए अपेक्षित धन की प्रतीक्षा कर रहे है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, वन्यजीव विभाग द्वारा शुरू में मांगे गए 3.60 करोड़ रुपये के मुकाबले, अब तक, PPCB ने ब्यास के कायाकल्प योजना के लिए केवल 1.03 करोड़ रुपये मंजूर किए थे और अब तक केवल 74 लाख रुपये जारी किए हैं।

मार्च 2019 में एक आधिकारिक पत्र में, विभाग ने PPCB को बताया कि, Beas के कायाकल्प के लिए उसे आवंटित 1.03 करोड़ रुपये काफी कम है। प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्यजीव), कुलदीप कुमार ने कहा: “ब्यास संरक्षण रिजर्व एक संरक्षित क्षेत्र है। मिल से जुर्माना वसूलने और जलीय जीवन की बहाली के लिए धन जारी करने के बजाय, ‘पीपीसीबी’ कार्रवाई में देरी कर रही है। कुमार ने कहा कि गलती करने वाले मिल से जुर्माना वसूलने के बजाय, ‘पीपीसीबी’ उन्हें मोलासिस भंडारण की क्षमता का विस्तार करने की अनुमति देना चाहता है। कुमार ने कहा की, हमारी संतुष्टि पूरी होने तक हम इस पर आपत्ति जताएंगे।

वन्यजीव विभाग द्वारा चीनी मिल के विस्तार का विरोध यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here