महाराष्ट्र में बम्पर गन्ना उत्पादन के साथ साथ चुनोतियां भी ‘बम्पर’

776

मुंबई : चीनी मंडी

महाराष्ट्र में इस साल के गन्ना सीज़न की शुरुआत बेहद परेशान करने वाली रही है। पहली बार, एक कठिन स्थिति बन गई है। अब राज्य सरकार किसी भी स्थिति में मदद करने की भूमिका में नहीं है, इसलिए अब कार्यकर्ता बेचैन हैं। पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा चीनी संकट से छुटकारा पाने के लिए युद्ध स्तर पर प्रयास किए जाने के बावजूद, महाराष्ट्र में राज्य सरकार की चुप्पी के कारण चीनी उद्योग नाराज दिखाई दे रहा है।

दूसरे राज्यों से सीखने की जरूरत है….

वर्तमान स्थिति से संपर्क किया है, तो पूरे देश में एक समस्या है, लेकिन कुछ राज्य सरकारे स्थिति को सुधारने के लिए अपने राज्य में मिलों की हर मुमकिन मदद कर रही है । पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में लगातार बढ़ रहे चीनी कोटे को कम करने के लिए वहाँ की राज्य सरकारे केंद्र सरकार से बिक्री और निर्यात कोटा बढ़ाने की मांग कर रही है; दूसरी ओर, महाराष्ट्र सरकार चीनी उद्योग को राहत देने के लिए कुछ प्रयास कर रही है, ऐसा अभी तो नजर नही आ रहा है। एफआरपी भुगतान को लेकर चीनी मिलों ने चेतावनी दी है कि, अगर संघर्ष हुआ, तो उसके लिए केवल सरकार ही जिम्मेदार होगी। नेशनल शुगर फेडरेशन के सूत्रों के अनुसार, राज्य सरकार के प्रयासों के बिना राज्य में चीनी उद्योग की स्थिति में सुधार करना असंभव है।

मिलों का कहना है…कर्ज नही, आर्थिक मदद करें सरकार …

कर्ज, ब्याज बकाए के इस बुरे चक्र में गन्ना मिलें पिछले कुछ वर्षों से अटकी हुई हैं। चीनी उद्योग के विशेषज्ञों का मानना है कि, जब तक यह चक्र नहीं टूटता, उत्पादकों के लिए बकाया राशि को जमा करना असंभव होगा। कोल्हापुर में, चीनी मिलों ने किसानों को सीधे सब्सिडी देने या चीनी की बिक्री मूल्य बढ़ाने की मांग की। मिलों ने किसान संगठन के नेता के पास जाकर समस्या को हल करने की कोशिश की; लेकिन वे सफल नहीं हुए हैं। पिछले कुछ वर्षों में, चीनी मिलों की एक तस्वीर इतनी बड़ी संख्या में “बैकफुट” पर चली गई है। किसी भी मामले में, मिलों द्वारा हमें इस स्थिति से मुक्त करने के लिए मांग की जाती है।

महाराष्ट्र के गन्ना किसान भी पशोपेश में…

आने वाले कुछ दिनों में, चीनी उद्योग को आर्थिक संकट से बाहर निकलने के लिए अगर कोई गंभीर प्रयास नहीं होते है, तो फिर से संघर्ष होने की संभावना है। एफआरपी को लेकर किसान संघ सख्त रुख में है। मौसम की तीव्रता को महसूस करना संभव है जैसा कि अपेक्षित है। किसान भी सरकार और चीनी मिलों की तरफ नजरे लगाकर बैठा है, जाने कब उसको उसके हक का दाम मिल जाए ।

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here