उत्तर प्रदेश: महिला स्व-सहायता समूहों को गन्ना नर्सरी स्थापित करने के लिए प्रशिक्षण

344

पीलीभीत : गन्ना विकास परिषद ने राज्य के 44 गन्ना उत्पादक जिलों में 15,000 से अधिक स्व-सहायता समूहों (SHG) की 15,000 से अधिक महिला सदस्यों को गन्ना पौध उगाने के लिए गन्ना नर्सरी विकसित करने के लिए एक योजना शुरू की है, जिसे वे किसानों को बेच सकते हैं।

गन्ना और चीनी उद्योग, यूपी सरकार के प्रमुख सचिव, संजय आर भूसरेड्डी ने कहा की, इस योजना में गन्ने के बीज उत्पादन के वैज्ञानिक तरीकों से महिलाओं को प्रशिक्षित करने, बीज के अलावा उन्हें तकनीकी सहायता देने और उन्हें खरीददारों को खोजने में सहायता करने की परिकल्पना की गई है। पंजीकरण कराने वाले स्वयं सहायता समूहों के लिए प्रशिक्षण शुरू हो गया है।

भूसरेड्डी ने कहा कि, गन्ने की उत्पादकता बढ़ाने के लिए रोपाई महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी क्योंकि ये फसली खेतों में लगाए जाएंगे, जहां गन्ने के पौधे सड़ गए हैं, सूख गए हैं या ठीक से अंकुरित नहीं हुए हैं। पीलीभीत जिला गन्ना अधिकारी जितेंद्र कुमार मिश्रा ने कहा, प्रत्येक नर्सरी के लिए 600 वर्ग मीटर की जमीन के एक छोटे से भूखंड की आवश्यकता होगी। रोपाई को आवश्यक ऊंचाई तक बढ़ने में 30 से 45 दिन लगेंगे।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here