चीनी मिल द्वारा वेतन नहीं दिए जाने के कारण कर्मचारियों ने किया प्रदर्शन

276

घोसी (उत्तर प्रदेश): कर्मचारियों का आरोप है की यहां के घोसी स्थित किसान सहकारी चीनी मिल द्वारा उन्हें छह महीनों से वेतन व अन्य भत्ते आदि नहीं दिए जा रहे हैं, जिससे गुस्साए कर्मचारियों ने हड़ताल शुरू कर दी। प्रशासन के काफी प्रयासों और एक हफ्ते में वेतन भुगतान का वादा करने के बाद ही हड़ताल को खत्म कराया जा सका।

खबरों के मुताबिक, कर्मचारियों का दावा है की उनका छह माह से वेतन, आफ सीजन भत्ता बकाया, ग्रेच्युटी, पीएफ आदि नहीं दिए जा रहे हैं, जिससे नाराज मिल कर्मचारियों ने मौजूदा पेराई सत्र के शुरू होने के बाद से ही अपनी आवाज उठानी शुरू कर दी थी। कई बार धरना-प्रदर्शन भी किया गया लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई। तब कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर बुधवार को अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए। बुधवार रात 1.40 बजे की शिफ्ट पर कोई कर्मचारी काम पर नहीं आया, जिससे मिल में काम ठप्प हो गया। तब जाकर मिल प्रशासन में हड़कंप मच गया। मिल प्रशासन ने मान-मनौव्वल कर हड़ताल को खत्म कराना चाहा, लेकिन कर्मचारियों ने मांगें पूरी होने तक हड़ताल वापस लेने से इंकार कर दिया। इस बीच, हड़ताल के चलते मिल के यार्ड और परिसर में गन्ना ट्रालियों की लंबी कतारें लग गईं।

सूचना पाकर वहां पहुंचे उपजिलाधिकारी निरंकार सिंह मिल के जीएम के साथ कर्मचारियों से मिले और मौजूदा सत्र से बकाया, वेतन भुगतान, बकाया वेतन, एरियर आदि के लिए सरकार को पत्र लिखने की बात कही लेकिन कर्मचारी नहीं माने। तब कहीं जाकर मिल प्रशासन ने एक सप्ताह में मांगों को पूरा करने का भरोसा दिया। गुरुवार को दिन भर चले लंबे जद्दोजहद और बातचीत के बाद मिल प्रशासन और कर्मचारियों के बीच लिखित समझौता हुआ, जिसके बाद हड़ताल खत्म कर दी गई।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here