गन्ना बकाया और गन्ना मूल्य को लेकर उत्तर प्रदेश में गरमाई राजनीति

1223

लखनऊ : चीनी मंडी

समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार पर गन्ना किसानों के साथ सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाया, जिनका चीनी उद्योग द्वारा शोषण किया जा रहा है। अखिलेश ने कहा कि, कानूनी प्रावधानों के बावजूद अगर गन्ना खरीदने के 14 दिनों के बाद भुगतान किया जाता है, तो खरीदार द्वारा भुगतान किए गए धन पर 15 प्रतिशत ब्याज देना जरूरी है, लेकिन चीनी मिलें किसानों को ब्याज नहीं दे रही हैं।

राज्य सरकार के किसान विरोधी होने का आरोप लगाते हुए, सपा प्रमुख ने कहा कि, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने केवल चीनी उद्योग को समय-समय पर चेतावनी जारी की और सरकार को लोक भवन में राज्य सचिवालय तक सीमित कर दिया गया। अखिलेश यादव ने कहा कि, भले ही पेराई सत्र शुरू हो गया हो, लेकिन सरकार को गन्ने के राज्य सलाहकार मूल्य (एसएपी) की घोषणा करना अभी भी बाकी है। उन्होंने कहा कि, समाजवादी पार्टी के पांच साल के शासनकाल के दौरान, न केवल एसएपी में 40 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी की गई थी, इसे पेराई सत्र के प्रारंभ के साथ घोषित किया गया था। सपा प्रमुख ने आरोप लगाया कि गन्ना किसान धैर्य खो रहे हैं और कई जिलों में किसानों ने विरोध प्रदर्शन किया और उनके गन्ने को जलाया।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here