उत्तर प्रदेश में गन्ना किसानों को ‘e-Ganna’ मोबाईल ऐप के मदद से घर बैठे ही मिल रही है सभी जानकारी

803

लखनऊः 05 दिसम्बर, 2019: प्रदेष के मा. मुख्य मंत्री योगी आदित्य नाथ जी द्वारा गन्ना पर्ची निर्गमन की व्यवस्था को पारदर्षी बनाने तथा भ्रष्टाचार पर जीरो टोलरेंस की नीति के तहत गन्ना माफियाओं पर अंकुष लगाने सम्बन्धी निर्देष दिये गये। जिस पर मा. मंत्री, गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग, श्री सुरेष राणा द्वारा गन्ना कृषकों के हित में लिये गये सकारात्मक निर्णयों के फलस्वरूप गन्ना विकास विभाग द्वारा गन्ना कृषकों की सुचारू रूप से गन्ना आपूर्ति एवं पर्चियों में पूर्ण पारदर्षिता लाने के उद्देष्य से प्रदेष में एकीकृत नई गन्ना प्रणाली अपनायी गई जिससे शासन की मंषानुरूप अपेक्षित परिणाम प्राप्त हो सकें।

इस सम्बन्ध में जानकारी प्रदान करते हुए आयुक्त, गन्ना एवं चीनी, श्री संजय आर. भूसरेड्डी ने बताया कि विभाग में ई.आर.पी. प्रणाली लागू होने के बाद नोडल अधिकारियों को उनके आवंटित मण्डलों में भ्रमण एवं गन्ना किसानों से संवाद के दौरान किसानों द्वारा नोडल अधिकारियों से पर्ची निर्गमन व्यवस्था में पारदर्षिता और वेब पोर्टल ‘www.caneup.in’ एवं ‘e-Ganna’ मोबाईल ऐप की भरपूर प्रषंसा की गयी। किसानों द्वारा बताया गया कि अब उन्हें समिति कार्यालयों के चक्कर नहीं काटने पड़ते और घर बैठे ही उन्हें सारी सूचनाएं सुलभ हो गयी हैं। मोबाईल पर समय से पूर्व ही उन्हें पर्चियों के बारे में सूचनाएं उपलब्ध हो जाती है।

किसानों ने नोडल अधिकारियों को यह भी बताया कि समितियों के सुदृढीकरण तथा पर्ची निर्गमन की व्यवस्था में प्रषासनिक सुधार से जहां किसान अब अपना पूरा समय खेतो को दे पाते हैं वहीं चीनी मिलें भी अब ‘‘गन्ना प्रबन्धन’’ पर अपना फोकस कर रही हैं। वेब पोर्टल और मोबाइल ऐप तथा एस.एम.एस. के आधार पर भी तौल की व्यवस्था होने तथा समितियों द्वारा पर्ची निर्गमन संबंधी कार्य मे सुधार के कारण बिचौलियों पर भी अंकुष लगा है। प्रदेष सरकार की डिजिटल प्रोत्साहन नीति को बढ़ावा देने वाली इस व्यवस्था की गन्ना किसानों द्वारा विभाग के सोषल मीडिया प्लेटफार्मस पर भी प्रषंसा की जा रही है एवं गन्ना क्षेत्रों से सम्बन्धित जन प्रतिनिधियों द्वारा भी इस व्यवस्था की भरपूर सराहना की गई है।

आयुक्त द्वारा यह भी बताया गया कि ई.आर.पी. व्यवस्था ने प्रदेष के लगभग 38.5 लाख गन्ना आपूर्तिकर्ता किसानों को आई.टी. प्लेटफार्म पर लाकर तकनीक से जोड़ने का कार्य किया है। जिसमें अब तक लगभग 98 लाख बार किसानों द्वारा वेबसाईट पर अपने आंकड़ों का अवलोकन किया गया है। अब तक लगभग 6.50 लाख गन्ना आपूर्तिकर्ता कृषक सदस्यों द्वारा ‘e-Ganna’ मोबाईल ऐप को अपने मोबाईल पर इंस्टाल किया जा चुका है।

गन्ना आयुक्त द्वारा किसानों से अपील की गई है कि वह इस व्यवस्था का लाभ लेने के लिए ज्यादा से ज्यादा ‘e-Ganna’ मोबाईल ऐप का इस्तेमाल करें। जिससे उन्हें उत्कृष्ट डिजिटल सेवाओं का लाभ प्राप्त हो सके तथा अनावष्यक भाग-दौड़ से मुक्ति के साथ पर्ची निर्गमन की इस एकीकृत एवं पारदर्षी व्यवस्था से उनके ताजे गन्ने की आपूर्ति चीनी मिलों को समय से हो सके।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here