महाराष्ट्र में चीनी सीजन पर सस्पेंस अभी भी बरकरार: गन्ना मूल्य पर चर्चा करने के लिए बैठक

308

कोल्हापुर: चीनी मंडी

महाराष्ट्र में 2019 – 20 चीनी सीजन शुरू करने और गन्ना मूल्य निर्धारित करने के लिए, चीनी मिलर्स और स्वाभिमानी शेतकरी संगठन के पदाधिकारियों की आज जिला सहकारी बैंक में बैठक होगी। बैठक में चीनी सीजन शुरू करने के मुद्दे का हल निकलने की संभावना है।

इस वर्ष बाढ़ के कारण गन्ने को बड़ी क्षति हुई है। इस बीच, वापसी की बारिश से भी किसानों को भारी नुकसान हुआ है। हर साल गन्ने का सीजन 1 नवंबर से शुरू होता है, लेकिन खेतों में पानी होने के कारण गन्ना कटाई को देरी हो रही हैं। इसलिए मिलों ने देरी से पेराई शुरू करने के संकेत दिए थे। पिछले एक सप्ताह से थमी बारिश के कारण मिलर्स ने चीनी आयुक्त से 18 नवंबर से 21 नवंबर तक मिलों को शुरू करने की मांग की है।

चूंकि राज्य में राजनितिक गतिविधियों के कारण अभी भी सरकार स्थापित नहीं हुई है, इसलिए कैबिनेट की कोई बैठक नहीं हुई। इसलिए, मिलों को पेराई लाइसेंस नहीं मिले हैं। इस बीच, जिन मिलों द्वारा एफआरपी भुगतान बकाया है, उन मिलों को पेराई लाइसेंस मिलने में दिक्कते आ सकती है। राज्य में राजनीतिक स्थिति के कारण, चीनी मौसम शुरू में देरी हो रही है और दूसरी ओर कर्नाटक में चीनी सीजन शुरू हो गया है। इस बीच, कर्नाटक राज्य ने गन्ना झोनबंदी की घोषणा की है, इसलिए कर्नाटक से गन्ना महाराष्ट्र में नहीं आएगा।

गगनबावड़ा तालुका में डी. वाई. पाटिल चीनी मिल और कागल तालुका के संताजी घोरपडे मिल ने पेराई शुरू की है। चूंकि अभी गन्ना दर की घोषणा नहीं की गई है, इसलिए स्वाभिमानी शेतकरी संघठन ने दोनों मिलों के गन्ने के आवागमन पर रोक लगा दी है। इसके चलते संघठन के प्रदेशाध्यक्ष प्रो. डॉ. जालंधर पाटिल के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने विधायक हसन मुश्रीफ और सतेज पाटिल से मुलाकात की और दोनों नेताओं से मांग की कि, उनके मिलों को जल्दी से बंद किया जाए। मुश्रीफ ने गन्ना मूल्य पर सम्मानजनक समझौता करने के लिए शनिवार को जिला बैंक में एक बैठक बुलाई है।

महाराष्ट्र में चीनी सीजन पर सस्पेंस अभी भी बरकरार यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here