महाराष्ट्र की लगभग 50 चीनी मिलें नहीं करेंगी गन्ने की पेराई

1517

मुंबई/ पुणे / कोल्हापुर: चीनी मंडी

पश्चिमी महाराष्ट्र में बाढ़ और मराठवाडा में सूखे के कारण लाखों हेक्टेयर गन्ना क्षेत्र प्रभावित हुआ है, गन्ने की संभावित कमी के कारण महाराष्ट्र में 2019-20 सीजन के लिए 50 चीनी मिलें गन्ने की पेराई नहीं कर सकते है। 2018-19 के चीनी पेराई सत्र के लिए, जो पिछले 20 अक्टूबर को शुरू हुआ था, लगभग 952.11 लाख टन गन्ने की पेराई की गई थी और 195 मिलों द्वारा 107 लाख टन चीनी का उत्पादन किया गया था।

सीजन 2019-2020 में राज्य का चीनी उत्पादन लगभग 70 से 75 लाख टन रहने की उम्मीद थी, लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि महाराष्ट्र में बाढ़ के बाद यह 12 से 15 प्रतिशत तक गिर सकता है। गन्ने की कम उपलब्धता के कारण पेराई अवधि पर भी इसका असर पड़ेगा।

‘विस्मा’ के अध्यक्ष बी. बी. थोंबरे ने बताया कि, मराठवाड़ा क्षेत्र की लगभग 35 मिलें, जो सूखे के प्रभाव में हैं, और सोलापुर क्षेत्र में 15-20 मिलें आने वाले मौसम में गन्ने की पेराई नहीं कर सकती हैं। उद्योग के सूत्रों ने बताया कि 100 मिलें भी पूरे सीजन में पूरी क्षमता के साथ नही शुरू रह सकती हैं।

राज्य के कई हिस्सों में सूखे की मार के चलते किसानों ने चारे के लिए गन्ने का इस्तेमाल किया था। अहमदनगर और सोलापुर जिलों में कई किसानों ने पानी की कमी के कारण अपनी गन्ने की फसल को उखाड़ दिया। इसलिए, गन्ने की खेती का क्षेत्र 2018-19 में 11.62 लाख हेक्टेयर से घटाकर 8.43 लाख हेक्टेयर हो गया, जिससे चीनी उत्पादन बुरी तरह प्रभावित हुआ। महाराष्ट्र के चीनी आयुक्त शेखर गायकवाड़ ने कहा कि, जब क्रशिंग लाइसेंस के लिए आवेदन करने वाले मिलों की संख्या का जायजा लिया जाएगा, तो तस्वीर अधिक स्पष्ट हो जाएगी। पेराई लाइसेंसों की अंतिम तिथि 31 अगस्त है और हमने तारीख बढ़ाने का फैसला किया है। गायकवाड़ ने कहा कि, सीजन की शुरुआत के संबंध में निर्णय मंत्रियों की समिति की बैठक में लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि अभी तक हमें मिलरों से पेराई सत्र में देरी के लिए कोई अनुरोध नहीं मिला है, लेकिन अधिकांश मिलरों ने मौखिक रूप से कहा है कि सीजन की शुरुआत में देरी होनी चाहिए।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here