केन्या: चीनी मिलों के कर्मचारियों को कई सालों से नहीं मिला है वेतन

160

गन्ने की अनुपलब्धता, खराब वित्तीय स्थिति ने केन्या में चीनी मिलों को प्रभावित किया है, और इसलिए मिलें जीवित रहने के लिए संघर्ष कर रही हैं। रिपोर्टों के अनुसार, देश की चीनी कंपनियों को मिल मजदूरों को 27.2 मिलियन डालर चुकाना है।

सोनी, चेमीलील, मुहोरोनी, और मुमैस कंपनियां अभी भी पिछले कई वर्षों से अपने श्रमिकों का भुगतान नहीं कर सकी हैं।

चेमीलील के प्रबंधन का कहना है गन्ना आपूर्ति में कमी, चीनी की कम कीमत के वजह से श्रमिकों के वेतन का भुगतान करने में देरी हो रही है। मार्च 2019 में, किसानों ने चीनी मिल द्वारा बकाया न चुकाने के कारण मिल को गन्ने की आपूर्ति रोक दी थी, जिसके बाद मिल को परिचालन बंद करना पड़ा था।

इन मिलों से जुड़े श्रमिकों की वित्तीय स्थिति दिन-ब-दिन बिगड़ती जा रही है क्योंकि उन्हें कई वर्षों से वेतन नहीं मिला है। श्रमिकों का दावा है कि वे अपने परिवारों को खिलाने में असमर्थ हैं, और न ही अपने बच्चों की स्कूल फीस का भुगतान करने में सक्षम हैं।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here