नहीं चलने दी जायेगी चीनी मिलें जब तक गन्ना मूल्य पर नहीं होता है कोई निर्णय

208

कोल्हापुर : चीनी मंडी

जैसे ही राज्य में गन्ने का सीजन शुरू होता है, वैसे ही चीनी उद्योग में किसान संघठन और मिलर्स के बीच संघर्ष की संभावना बढ़ जाती है, क्योंकि एकमुश्त गन्ना मूल्य (एफआरपी) की मांग मिलर्स नही मानते है। रविवार को भी कोल्हापुर में चीनी मिलर्स और स्वाभिमानी किसान संघठन के बीच वार्ता की पहली बैठक विफल रही है, और जब तक एकमुश्त एफआरपी के बारे में ठोस फैसला नही होता है, तब तक मिलें बंद रखने का ऐलान किया गया है। मिलर्स की इस भूमिका के बाद स्वाभिमानी शेतकरी संघठन ने भी आक्रामक रुख अपनाया है, और चेतावनी दी है की, जब तक हमारी मांगे पूरी नही होती, तब तक हम कोई भी मिल शुरू नही होने देंगे।

कोल्हापुर के सरकारी रेस्ट हाउस में चीनी मिलर्स और स्वाभिमानी किसान संघठन के पदाधिकारियों की एक बैठक हुई। इस समय, चीनी मिलों के प्रतिनिधि के रूप में विधायक सतेज पाटिल, विधायक प्रकाश आवाडे, और कुछ चीनी मिलों के कार्यकारी निदेशकों ने सीजन के लिए वित्तीय कठिनाइयों को प्रस्तुत किया।उन्होंने दावा किया की, इस सीजन में मिलें एकमुश्त गन्ना मूल्य का भुगतान करने में सक्षम नहीं होगी, इसलिए गन्ना मूल्य तीन किश्तों में दी जा सकती है। चीनी मिलर्स के इस प्रस्ताव से नाराज होकर स्वाभिमानी किसान संघठन के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. जालंधर पाटिल, राजेंद्र गड्डयानवार, सावकर मादनाइक, वैभव काम्बले, विठ्ठल मोरे आदि प्रतिनिधि इस बैठक से बाहर हो गए और यह बैठक रद्द कर दी गई। उन्होंने बैठक के बाहर आकर ऐलान किया की, जब तक एकमुश्त पहिली किश्त और गन्ना मूल्य पे ज्यादा रकम किसानों को देने का फैसला नही होता तब तक हम चीनी मिलें शुरू नही होने देंगे।

स्वाभिमानी शेतकरी संघठन ने 23 नवंबर को जयसिंगपुर में राज्यव्यापी गन्ना सम्मेलन आयोजित किया है। इस सम्मेलन में गन्ने की दरें तय की जाएंगी। पत्रकारों से बात करते हुए डॉ. पाटिल ने संवाददाताओं से कहा कि, गन्ना सम्मेलन में जिस दर का ऐलान होगा, वही दर अंतिम दर होगी। उन्होंने यह भी चेतावनी दी कि, तब तक कोल्हापुर जिले में किसी भी चीनी मिल को गन्ने की आपूर्ति नहीं की जाएगी। इस बीच, कोल्हापुर जिले के सभी चीनी कारखाने कल से बंद रहेंगे। विधायक सतेज पाटिल ने बैठक के बाद कहा, आज यह प्रारंभिक चर्चा थी। इस बार हमने चीनी मिलों की समस्याओं के बारे में बात की। उन्होंने कहा कि, स्वाभिमानी शेतकरी संघठन का गन्ना सम्मेलन खत्म होने के बाद एक बार फिर बैठक आयोजित की जाएगी।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here