देश में चीनी उत्पादन 54 प्रतिशत गिरा

1139

नई दिल्ली: इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (ISMA) के अनुसार, चीनी सीजन 2019-20 में चीनी उत्पादन 30 नवंबर, 2019 तक 18.85 लाख टन है। जब की 2018-19 सीजन में 30 नवंबर 2018 तक 40.69 लाख टन उत्पादन हुआ था। नए सीजन में चीनी उत्पादन में 54 प्रतिशत की गिरावट देखी जा सकती है।

इस चीनी सीजन में 30 नवंबर 2019 तक 279 चीनी मिलें गन्ने की पेराई कर रही थीं, जब की पिछले साल 30 नवंबर 2018 तक 418 चीनी मिलें गन्ने की पेराई कर रही थीं।

उत्तर प्रदेश में 30 नवंबर 2019 तक 111 चीनी मिलों ने गन्ने की पेराई कर के 10.81 टन चीनी उत्पादन किया जबकि पिछले साल नवंबर, 2018 के अंत में, उत्तर प्रदेश में 105 चीनी मिलें पेराई कर रही थीं, जिन्होंने 9.14 लाख टन चीनी उत्पादन किया था।

महाराष्ट्र में, गन्ना पेराई देरी से शुरू हुईं है। 30 नवंबर 2019 तक 43 चीनी मिलों ने गन्ना पेराई शुरू किया है, जबकि 30 नवंबर 2018 तक 175 चीनी मिलें पेराई कर रही थी। 30 नवंबर, 2019 तक, राज्य में चीनी उत्पादन 67,000 टन हुआ है, जबकि 30 नवंबर 2018 को राज्य में 18.89 लाख टन चीनी उत्पादन हुआ था।

कर्नाटक राज्य में 30 नवंबर, 2019 तक 61 चीनी मिलों ने पेराई कर 5.21 लाख टन चीनी का उत्पादन किया, जबकि पिछले साल 30 नवंबर, 2018 तक, 63 चीनी मिलें गन्ना पेराई कर रही थीं, जिन्होंने 8.40 लाख टन चीनी का उत्पादन किया था।

गुजरात में भी चीनी मिलों ने अधिक बारिश के चलते इस सीजन में लगभग 20 दिनों के बाद गन्ना पेराई शुरू किया। राज्य में 30 नवंबर, 2019 तक 14 चीनी मिलों ने पेराई कर 75,000 टन चीनी का उत्पादन किया, जबकि पिछले साल 30 नवंबर, 2018 तक, 16 चीनी मिलें गन्ना पेराई कर रही थीं, जिन्होंने 2.05 लाख टन चीनी का उत्पादन किया था।

अन्य सभी राज्यों में भी पेराई कार्य  शुरू हो गए हैं और क्रशिंग की गति बढ़ रही है। अन्य राज्यों में लगभग 50 चीनी मिलें चल रही हैं, जिन्होंने 30 नवंबर, 2019 तक इस सीजन में 1.41 लाख टन का उत्पादन किया है, जो पिछले सीजन में 2.21 लाख टन था, जब 30 नवंबर, 2018 तक 60 मिलें चल रही थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here