भारतीय उत्पादन में कटौती से चीनी की कीमतें बढ़ने की संभावना…

449

नई दिल्ली : चीनी मंडी

चीनी उद्योग के विश्लेषकों और व्यापारियों के एक सर्वेक्षण में दिखाया गया है की, 2019-20 सीज़न के लिए वैश्विक चीनी उत्पादन में घाटे के साथ-साथ, इस साल के अंत तक चीनी की कीमतें बढ़ने का अनुमान है। महाराष्ट्र में सूखे के कारण गन्ने की फसल बहुत प्रभावित हुई है, जिससे उत्पादन में गिरावट का अनुमान लगाया जा रहा है। उत्पादन घटने के कारण भारत में घरेलू बाजारों में चीनी की कीमत बढ़ेगी और उच्च घरेलू कीमतों से विश्व बाजार में निर्यात की मात्रा कम हो जाएगी।

भारत और ब्राज़ील में घटेगा चीनी उत्पादन….
2018-2019 में 2.50 मिलियन टन अधिशेष से 2019-20 में विश्व चीनी 2.95 मिलियन टन कम का अनुमान है। ISMA के अनुसार 2019-20 में भारत का उत्पादन 28.2 मिलियन टन रहने का अनुमान है।

सोपेक्स समूह के चीनी विश्लेषक जॉन स्टैंसफील्ड ने कहा, हम 2019-2020 में भारतीय उत्पादन में भारी गिरावट की उम्मीद करते हैं। ब्राजील में भी चीनी के बजाय इथेनॉल बनाने के लिए गन्ने के भारी उपयोग से आपूर्ति पर अंकुश लगने की संभावना है। सर्वेक्षण में कहा गया है कि, 2019-20 के मौसम में ब्राजील में चीनी बनाने के लिए 35.95 प्रतिशत गन्ने का उपयोग किया जाएगा। यह अनुपात 2018-19 के समान होगा जब चीनी बनाने के लिए 35.2 प्रतिशत का उपयोग किया गया था। हालाँकि, यह 2017-18 में 46.5 प्रतिशत और 2016-17 में 46.3 प्रतिशत गन्ने का इस्तेमाल चीनी उत्पादन के लिए किया गया था।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here