उत्तर प्रदेश: 30 नवंबर तक फसल अवशेष जलाने के 4,600 मामले दर्ज…

146

बिजनौर: कृषि और गन्ना विभाग के अधिकारी अब वायु गुणवत्ता सूचकांक में सुधार के लिए राज्य में फसल अवशेष जलाने की घटनाओं पर नजर रख रहे हैं। इस सीजन में फसल की कटाई शुरू होने के बाद से यूपी में 4,600 फसल जलाने की घटनाएं दर्ज की गई हैं। इससे पहले 30 नवंबर को, गन्ना आयुक्त ने पत्तियों को जलाने की जाँच के लिए मेरठ, सहारनपुर और मुज़फ्फरनगर सहित आठ जिलों के जिला गन्ना अधिकारियों को नोटिस जारी किए थे।

हर साल, सर्दियों की शुरुआत के साथ फसल अवशेषों को जलाने से दिल्ली में हवा की गुणवत्ता खराब और कभी कभी गंभीर हो जाती है। कृषि विभाग द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के अनुसार, पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में उपग्रह निगरानी ने 30 नवंबर तक अकेले पंजाब में फसल अवशेष और कचरा जलाने के कुल 79,693 मामले दर्ज किए हैं। हरियाणा में 5,678 और यूपी में 4,658 फसल अवशेष के मामले दर्ज किए गए हैं।

उपग्रह रिकॉर्डिंग ने यह भी दिखाया कि हरियाणा और यूपी में फसल अवशेष जलाने के मामले अब घट रहे हैं। यूपी में धान की कटाई हो चुकी है, लेकिन गन्ना किसान अगली फसल के लिए अपने खेतों की जुताई से पहले गन्ने के डंठल के सूखे पत्तों को जलाते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here