निजी मिलों की चीनी रिकवरी हुई कम…

746

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

पुणे: चीनी मंडी

नगर जिले में चीनी मिलों का पेराई मौसम खत्म हो गया है। इस साल की औसत चीनी रिकवरी पिछले साल की तरह लगभग 11 प्रतिशत रही है। सहकारी मिलों की रिकवरी निजी मिलों की तुलना में अधिक रही है। कुछ चीनी मिलों की रिकवरी पिछले साल की तुलना में बहुत अधिक है, तो कुछ चीनी मिलों की रिकवरी में काफी गिरावट हुई है।

केंद्रीय कृषि मूल्य आयोग ने 10% तक रिकवरी के लिए 2,750 रुपये प्रति टन एफआरपी की सिफारिश की है। अगले हर चरण के लिए 300 रुपये की पेशकश की है। औसतन 10% से अधिक रिकवरी से एफआरपी भी अधिक होती हैं, लेकिन चीनी मिलों को चीनी की कम कीमत से मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। अधिशेष चीनी की समस्या भी गंभीर हुई है। पिछले साल में, किसानों के नेताओं ने, मिलर्स पर चीनी की कम रिकवरी दिखाकर गन्ना किसानों को धोखा देने का आरोप लगाया था। किसान संघठनों के आरोप का रुख निजी चीनी मिलों की तरफ था। इसके बाद आननफानन में कुछ निजी चीनी मिलों ने मशीन पुरानी होने के कारण चीनी रिकवरी कम होने का दावा किया था।

इस वर्ष गन्ने की किस्म की उपलब्धता के कारण चीनी उत्पादन में सुधार हुआ है। पिछले सीजन के दौरान, 1 करोड़ 37 लाख टन गन्ने का उत्पादन और 1 करोड़ 51 लाख क्विंटल चीनी का उत्पादन किया गया। पिछले साल के पेराई सत्र के दौरान, सहकारी और निजी क्षेत्र दोनों उद्योगों की औसत चीनी रिकवरी 11% थी। इस साल निजी और सहकारी मिलों में औसत चीनी रिकवरी 11.05 प्रतिशत है। निजी क्षेत्र की चीनी रिकवरी 10.80 प्रतिशत है, जबकि सहकारी चीनी मिलों की रिकवरी 11.14 प्रतिशत है।

इस सीजन में, संगमनेर के थोरात सहकारी चीनी मिल की रिकवरी सबसे अधिक 11.83 प्रतिशत है। पिछले वर्ष की तुलना में चीनी की रिकवरी थोड़ी अधिक है। डॉ. बी.बी.तनपुरे सहकारी चीनी मिल की रिकवरी 11.74 प्रतिशत हैं। निजी क्षेत्र में अम्बालिका चीनी की रिकवरी सबसे अधिक 11.33% है और साई क्रुपा द्वारा सबसे कम वसूली दर 8.09% दर्ज की गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here