चीनी मिलों से 15 प्रतिशत ब्याज की मांग गन्ना भुगतान में देरी करने के लिए

315

पुणे; चीनी मंडी:  महाराष्ट्र की चीनी मिलों ने 2019-20 के सीजन के लिए किसानों को उचित और पारिश्रमिक मूल्य (एफआरपी) का 58.53 प्रतिशत भुगतान किया है, जो कुल 1,037.13 करोड़ रुपये है। 735.93 करोड़ रुपये एफआरपी बकाया भुगतान किया जाना अब भी बाकी है। महाराष्ट्र चीनी आयुक्तालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, कुल 1,771.82 करोड़ एफआरपी देय थी।

महाराष्ट्र गन्ना नियंत्रण बोर्ड के प्रल्हाद इंगोले ने राज्य सरकार के मुख्य सचिव, सहयोग सचिव और महाराष्ट्र चीनी आयुक्त से उन मिलों से 15% ब्याज की मांग की है जो किसानों को तय समय पर एफआरपी भुगतान करने में विफल रहीं हैं। इंगोले ने दावा किया कि, नांदेड़ क्षेत्र में कई मिलों ने किसानों को भुगतान नहीं किया है और अपनी सुविधा के अनुसार किसानों को भुगतान कर रहे हैं। ऐसे मिलों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई करते हुए, इंगोले ने कहा कि, एफआरपी भुगतान पर 15 प्रतिशत ब्याज लगाया जाना चाहिए। परभणी, हिंगोली, नांदेड़ और लातूर जिलों में एक भी मिल ने किसानों का बकाया भुगतान नही किया है। इसके बजाय, उन्होंने केवल छोटी मात्रा में भुगतान किया है, और यह स्थिती किसानों को वित्तीय संकट में डाल रही है।

महाराष्ट्र में अब तक 113 मिलों ने गन्ना पेराई में भाग लिया है और 75 मिलों ने किसानों को पूरा एफआरपी बकाया भुगतान नही किया है। लगभग 38 मिलों ने किसानों को 100 प्रतिशत एफआरपी भुगतान किया है। खबरों के मुताबिक अब तक किसी भी मिल को ‘आरआरसी’ जारी नहीं किया गया है और पिछले सीज़न के एफआरपी का बकाया अभी भी बाकि है। मराठवाड़ा क्षेत्र में मिलों के जनवरी के अंत तक बंद होने की उम्मीद है, पश्चिमी महाराष्ट्र की कुछ मिलों में पेराई जारी रह सकती है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here