बाढ़ से हरियाणा में गन्ने की फसल को पहुंचा नुकसान

291

करनाल: महाराष्ट्र, कर्नाटक और अन्य राज्यों के बाद, अब हरियाणा में बाढ़ के वजह से फसलें जलमग्न हो चुकी है। भारी बारिश सहित राज्य के यमुनानगर, करनाल, पानीपत और सोनीपत जिलों में हथिनीकुंड बैराज से छोड़े गए अतिरिक्त पानी से बाढ़ आयी है। हालांकि, पिछले दो दिनों में बारिश की गतिविधि में गिरावट के साथ, यमुना नदी में जल स्तर कम हो गया, लेकिन फिर भी खेत में अभी भी पानी भरा हुआ है।

बाढ़ ने प्रभावित जिलों में फसलों को नुकसान पहुंचाया है। अन्य फसलों की तरह, अत्यधिक जलभराव से गन्ने को भी नुकसान पहुंचा है। बाढ़ से गन्ना किसानों को बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचा है।

रिपोर्टों के अनुसार, बाढ़ के बाद हजारों हेक्टेयर खेती पानी के नीचे हैं। हथिनीकुंड बैराज से छोड़े गए अतिरिक्त पानी से यमुनानगर जिले के एक दर्जन गांव भी बह गए। मुख्य सचिव किशनी आनंद अरोड़ा ने कहा, “भारी बारिश के कारण, इस समय यमुना में जल स्तर बढ़कर 8.28 लाख क्यूसेक के नए उच्च स्तर पर पहुंच गया है। 2013 में, यह 8.14 लाख क्यूसेक था।”

महाराष्ट्र, कर्नाटक ने भी बाढ़ के प्रकोप का सामना किया, जहां गन्ने सहित कई फसलें गंभीर रूप से प्रभावित हुई हैं। प्रारंभिक जांच के अनुसार, बेलागवी जिले में 40 लाख टन गन्ने का नुकसान हुआ है। इसी तरह, महाराष्ट्र में बाढ़ ने गन्ने की फसल को प्रभावित किया। गन्ने को हुए नुक्सान के साथ, यह कर्नाटक और महाराष्ट्र में चीनी उत्पादन को प्रभावित कर सकता है। दोनों राज्यों में चीनी के उत्पादन में गिरावट की संभावना है।

गन्ना किसान जो पहले से ही गन्ना बकाया को लेकर आक्रोश में है अब वे सदमे की स्थिति में हैं और अब अपने जीवन को वापस से पटरी पे लाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। बाढ़ ने न केवल जीवन को छीना है, बल्कि इसने हजारों करोड़ रुपये की संपत्ति, फसलों और अन्य को भी नुकसान पहुंचाया। उद्योग निकायों और राजनीतिक दलों ने भी स्थिति का आकलन किया है और दावा किया कि सिर्फ महाराष्ट्र में बाढ़ से उद्योगों के बंद होने और फसलों के गंभीर नुकसान से कम से कम 10,000 करोड़ रुपये के नुकसान का अनुमान है।

पूरे भारत में भारी बारिश ने जनजीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया। रिपोर्टों के अनुसार, अब तक, 1,058 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं, और राज्य और केंद्रीय एजेंसियों द्वारा पूरे भारत में 18 लाख से अधिक लोगों को बचाया गया है। 152 जिलों में, बाढ़ प्रभावित लोगों को आश्रय देने के लिए 7,800 से अधिक राहत शिविर खोले गए हैं।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here