श्रीलंका अब चीनी उत्पादन पर देगा जोर

190

1 अगस्त : श्रीलंका में गन्ने को देश की सबसे बड़ी फसल के रूप में घोषित करने के लिए सरकार को कैबिनेट की मंजूरी मिल गई है। मंत्री नवीन दिसानायके ने देश में चीनी की आवश्यकता को पूरा करने और चीनी उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए यह प्रस्ताव रखा था।

श्रीलंका की वार्षिक चीनी खपत 670,000 मीट्रिक टन है और इस आवश्यकता का 91% आयात से पूरा होता है। इस उद्देश्य के लिए सालाना लगभग 350 मिलियन अमेरिकी डॉलर खर्च होता है।

वर्ष 2020 तक, यह उम्मीद है कि घरेलू चीनी की आवश्यकता 700,000 मीट्रिक टन तक बढ़ जाएगी।

इस आवश्यकता को पूरा करने में सक्षम मानेरगाला, बटियाकोला, किलिनोच्ची, अनुराधापुरा, त्रिनकोमाली, अम्पारा, बादुल्ला और पोलोनारुवा जिलों में लगभग 104,000 हेक्टेयर भूमि की पहचान की गई है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here