“चीनी उद्योग बन रहा है बीमार उद्योग”

 

सिर्फ पढ़ो मत अब सुनो भी! खबरों का सिलसिला अब हुआ आसान, अब पढ़ना और न्यूज़ सुनना साथ साथ. यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

लोक सभा चुनाव से पहले, उत्तर प्रदेश विधानसभा में गुरुवार को ४. ७९  लाख करोड़ का बजट पेश किया गया। लेकिन इस बजट में वित्तीय संकट से जूझ रहे चीनी उद्योग और गन्ना किसानों के लिए कुछ ख़ास पेश नहीं किया गया, ऐसा दवा उत्तर प्रदेश के गन्ना किसानो ने किया है।

किसानों ने दावा किया की उत्तर प्रदेश सरकार की बजट से उन्हें कुछ ख़ास मुनाफा नहीं होगा।

सरकार ने बजट में कुछ मिलों को पुनर्जीवित करने के लिए 50 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है और सहकारी मिलों के लिए 25 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है। किसानों ने कहा कि सरकार द्वारा की गई घोषणाएं बकवास है।

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिवान चंद चौधरीजी ने Chinimandi.com से ख़ास बातचीत में कहा की, “चुनाव से पहले, योगी सरकार ने वादा किया था कि अगर भाजपा सत्ता में आती है तोह गन्ना किसानों का बकाया भुगतान 120 दिनों के भीतर हो जाएगा, लेकिन अभी तक ऐसा कुछ नहीं हुआ है। इसके अलावा, उन्होंने आश्वासन दिया था कि 14 दिनों के भीतर गन्ना किसानों को भुगतान प्राप्त होगा, लेकिन काफी सारे किसानों को अभी तक पूरा भुगतान नहीं मिला है ”

“चीनी उद्योग यूपी में एक बीमार उद्योग बन रहा है. गन्ना किसानों की लागत बढ़ रही है, लेकिन उन्हें उसके अनुसार भुगतान नहीं मिल रहा है।  हर राज्य में गन्ना किसान या तोह  राज्य सरकार या फिर केंद्र सरकार के कारण संघर्ष कर रहा है” दिवान चंद चौधरीजी ने कहा।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, उत्तर प्रदेश में पिछले पेराई सत्र के 1,032 रुपये करोड़ सहित 8,000 करोड़ रुपये बकाया है।

कुछ दिनों पहले, बिजनौर के किसानो ने बड़ी संख्या में गन्ना भुगतान न मिलने पर विरोध प्रदर्शन किया था।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here