चीनी तस्करी ने जर्मनी के मिल को डुबो दिया….

175

मोल्दोवा : चीनी फर्म सुदज़ुकर मोल्दोवा ने 23 अक्टूबर को कहा, मोल्दोवा चीनी की बिक्री में काफी कमी के कारण अपनी दो मिलों में से एक, फलेस्टी में अपनी मिल की गतिविधि को अप्रैल 2021 तक रोक दिया है। मोल्दोवा ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा चीनी की तस्करी के कारण बिक्री हज़ारों टन गिर गई है। कई सारे उपायों के बावजूद, 2018 में सुदज़ुकर मोल्दोवा को € 5mn से अधिक का नुकसान हो गया है और इस साल भी मिल का घाटा बढने की उम्मीद है। इसके आगे कंपनी अपने अन्य मोल्दोवा मिलों में अपने उत्पादन पर ध्यान केंद्रित करेगी, जो ड्रोचिया में स्थित है, जिसकी उत्पादन लागत कम है।

सुदज़ुकर मोल्दोवा के प्रबंधन ने यह भी कहा कि, फलेस्ती मिल के कर्मचारियों को इस क्षेत्र की अन्य कंपनियों में पहले ही नौकरी की पेशकश की जा चुकी है।जर्मन कंपनी ड्रेक्सलमेयर ने मिल के 80 से अधिक कर्मचारियों को नौकरी और मुफ्त दैनिक परिवहन की पेशकश की। इतालवी कंपनी मार्टटेक्स्ट, जिसने फेलेस्टी में कपड़ा उत्पादन कंपनी खोली है, उन्हों ने भी सुदज़ुकर मोल्दोवा के फलेस्टी कर्मचारियों को नौकरी की पेशकश की है।

सुदज़ुकर मोल्दोवा के निदेशक मंडल के अध्यक्ष अलेक्जेंडर कोस ने कहा की, हमें उम्मीद है कि बाजार स्थिर हो जाएगा और फलेस्टी में चीनी संयंत्र को वापस परिचालन में लाया जाएगा। हम कारखाने के कर्मचारियों के साथ अपने संबंधों में ईमानदार हैं और उनका नुकसान नही होने देंगे। मोल्दोवन-जर्मन कंपनी सुदज़ुकर मोल्दोवा गणराज्य में चुकंदर के उत्पादन में बड़ी कंपनी मानी जाती है। वर्तमान में कंपनी की देश में तीन मिलें हैं। उनमें से दो – ड्रोचिया और फलेस्टी में – चीनी के उत्पादन में शामिल हैं, और एक रसद और पैकेजिंग केंद्र अलेक्जेंड्रेनी उत्पादन इकाई में स्थित है। 2018 में, कंपनी ने लगभग 52,000 टन चीनी का उत्पादन किया है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here