लॉकडाउन के संकट के बीच गन्ना कटाई मजदूरों को अजीत पवार ने दी राहत

308

मुंबई : चीनी मंडी

पश्चिमी महाराष्ट्र और कर्नाटक-महाराष्ट्र सीमावर्ती इलाकों की अधिकांश चीनी मिलों का पेराई सीजन खत्म हुआ हैं। उन मिलों में अहमदनगर और बीड जिले के लगभग एक लाख गन्ना श्रमिक कोरोना वायरस प्रकोप के चलते जिला सीमाए बंद करने से फंसे है। इस अवरोध को उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने हल किया।उन्होंने बताया कि, मिलों के प्रबंध निदेशक या कृषि अधिकारियों के पत्रों के साथ, उन श्रमिकों को अब अपने घर जाना संभव है।

कोरोना वायरस को खत्म करने के प्रयासों के तहत, राज्य सरकार ने महाराष्ट्र में जिला नाकाबंदी का फैसला किया था और दो पड़ोसी जिलों में यातायात पर प्रतिबंध लगा दिया है। जिससे हजारों गन्ना कटाई मजदूर फंसे थे, इस समस्या का हल निकालने के लिए सामाजिक न्याय मंत्री धनंजय मुंडे ने उपमुख्यमंत्री पवार के साथ मिलकर काम शुरू किया, और मुंढे इन प्रयासों में सफल रहे हैं। उपमुख्यमंत्री अजीत पवार के अनुसार, कुछ जिलों में चीनी मिलों में भोजन, आश्रय और स्वास्थ्य सुविधाओं की व्यवस्था करने का निर्णय लिया गया है। उपमुख्यमंत्री पवार ने तुरंत पुणे संभागीय आयुक्त मैसेकर से संपर्क करके यह निर्णय लिया। पुलिस महानिदेशक को यह सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया गया कि, श्रमिकों को उनके घर लौटने पर कहीं भी रोका नहीं जाएगा। राज्य सरकार ने गोपीनाथ मुंडे गन्ना कटाई मजदूर निगम की जिम्मेदारी श्रम विभाग से लेकर सामाजिक न्याय विभाग को सौपी है। हालांकि, इस निगम का काम अभी तक शुरू नहीं हुआ है, लेकिन मुंडे ने संकट के समय में श्रमिकों को राहत देने का काम किया है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here