उत्तर प्रदेश में चीनी मिलों ने प्रदूषण नियंत्रण के लिए किया 600 करोड़ रुपये का निवेश

249

लखनऊ : चीनी मंडी

उत्तर प्रदेश में निजी चीनी मिलों द्वारा पिछले 2 वर्षों में प्रदूषण नियंत्रण उपायों के लिए लगभग 600 करोड़ रुपये का निवेश किया गया है। यूपी शुगर मिल्स एसोसिएशन (UPSMA) के अध्यक्ष सी.बी. पटोडिया ने कहा, चीनी उद्योग ने 2017 से प्रभावी उपायों की दिशा में 500-600 करोड़ रुपये का निवेश किया है और हमारे संयंत्रों ने प्रदूषित पानी का निर्वहन नहीं किया है और यदि आवश्यक हो तो हम और अधिक निवेश करने के लिए तैयार हैं।

पटोडिया रेखांकित किया कि, चीनी उद्योग के लिए पर्यावरण के मापदंडों में स्पष्टता की कमी थी, जिसे हल करने की आवश्यकता थी, क्योंकि अब राज्य चीनी मिलें भी अपने उत्पाद पोर्टफोलियो का विस्तार करने के लिए इथेनॉल उत्पादन में प्रवेश कर रही हैं। पटोडीया ने यूपी चीनी उद्योग और पर्यावरण के विषय पर एक कार्यशाला के मौके पर बताया की, हम अपने संयंत्रों में अधिक निवेश करने के लिए तैयार हैं और यहां तक कि (UPSMA) के तत्वावधान में प्रयोगशाला स्थापित करने और केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) और यूपी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (UPPCB)के सहयोग से मान्यता प्राप्त और संचालित करने का प्रस्ताव किया है।

कार्यशाला को संबोधित करते हुए, पटोदिया ने कहा कि, राज्य का चीनी उद्योग भी बदलते पर्यावरण और प्रदूषण के मानदंडों के अनुरूप सीमेंट और कागज उद्योगों की तर्ज पर अपना परिचालन प्रोटोकॉल तैयार करेगा। उन्होंने कहा कि, चीनी क्षेत्र ने राज्य की ग्रामीण अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और उद्योग यह सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास करने को तैयार है कि यह जल निकायों को दूषित न करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here